फैक्ट चेक ! प्याज और सेंधा नमक के सेवन से 15 मिनट में कोरोना वायरस के संक्रमण के ठीक हो जाने का दावा

फैक्ट चेक ! प्याज और सेंधा नमक के सेवन से 15 मिनट में कोरोना वायरस के संक्रमण के ठीक हो जाने का दावा

स्पेशल डेस्क।
तहलका 24×7
                भारत में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच इससे जुड़ी फर्जी और भ्रामक सूचनाएं भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। ऐसी ही एक पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि सेंधा नमक के साथ प्याज खाने से 15 मिनट के अंदर कोरोना संक्रमित पॉजिटिव से नेगेटिव हो जाएंगे। तहलका 24×7 न्यूज़ की पड़ताल में वायरल दावा झूठा निकला है।

# क्या हो रहा है वायरल

सोशल मीडिया के कई प्लेटफॉर्मों (फेसबुक, व्हाट्सअप, ट्यूटर, इंस्टाग्राम आदि) पर एक पोस्ट शेयर की जा है जिसमें लिखा है “सेंधा नमक के साथ कच्ची प्याज (लाल डार्क वाली) छीलकर खाने से 15 मिनिट बाद लोग पॉजिटिव से निगेटिव हो रहे हैं ये एकदम सत्य है आप खुद करके देखे… कोरोना हो या ना हो कच्ची प्याज सेंधा नमक लगा कर रोज खाते रहें वायरस गले में ही मर जायेगा… आपको लाभ हो तो सबको शेयर जरूर करें।”

# तहलका 24×7 न्यूज़ पड़ताल

तहलका 24×7 न्यूज ने इस दावे की पड़ताल के लिए परिवार एवं स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की आधिकारिक वेबसाइट को खंगाला। हमने प्याज और नमक से जुड़े असर के बारे में जानना चाहा, लेकिन हमें इनसे जुड़ी कोई भी ऐसी जानकारी नहीं मिली जिनका सम्बन्ध सेंधा नमक और प्याज खाने से किसी भी प्रकार के वायरस के खात्मे से है।

तहलका 24×7 न्यूज ने इस संबंध में कई चिकित्सकों से संपर्क किया सभी चिकित्सकों ने इस भ्रामक दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया। चिकित्सकों के मुताबिक इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि कटा हुआ कच्चा प्याज कीटाणुओं या विषाक्तता को खत्म करता है। 1500 शताब्दी के समय में यह माना जाता रहा कि कमरे में कटा हुआ प्याज रखने से बुबोनिक प्लेग से बचा जा सकता है। कीटाणुओं के खोज से पहले यह माना जाता रहा था कि संक्रामक रोग छुआछूत या विषैली हवा से फैलते हैं। झूठ होते हुए भी यह मान्यता लोक चिकित्सा का हिस्सा रही और चेचक, इन्फ्लूएंजा और अन्य संक्रामक बीमारियों को दूर करने का दावा करती रही।

स्वास्थ्य से जुड़ी सूचनाओं के प्रामाणीकरण को समर्पित प्रयास health-desk.org के मुताबिक, लहसुन और प्याज एक ही परिवार के सदस्य हैं। लहसुन की तरह प्याज को भी रोगाणुरोधी और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुणों के लिए जाना जाता है। हालांकि, इसको लेकर अध्ययन काफी सीमित हैं। अब तक ऐसी कोई स्टडी सामने नहीं आई है, जो कोविड-19 के इलाज के रूप में प्याज का मूल्यांकन करे। इसके अलावा ऐसा कोई वैज्ञानिक सबूत भी नहीं है, जो यह पुष्टि करे कि प्याज कोविड-19 के संक्रमण को ठीक कर सकता है या इससे बचा सकता है।

 

कोरोना से बचाव का सबसे असरदार तरीका अपने हाथों की सफाई, मास्क पहना, स्वच्छता को अपना और सोशल डिस्टेंसिंग यानी सामाजिक दूरी का पालन करना है। कोविड-19 के काफी संक्रामक दौर में भारत ने जनवरी 2021 में व्यापक पैमाने पर वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू की है। सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने आपात कालीन इस्तेमाल के लिए भारत में दो वैक्सीन Covishield® (भारत के सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा बनाई जा रही एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन) और Covaxin® (भारत बायोटेक द्वारा निर्मित) को मंजूरी दी है।

# तहलका 24×7 न्यूज का निष्कर्ष

प्याज और नमक के सेवन से 15 मिनट में कोरोना वायरस के संक्रमण के ठीक हो जाने का दावा झूठा है।
Apr 22, 2021

Previous articleआज की बड़ी खबर.. कोरोना के कहर से सुप्रीम कोर्ट चिंतित, केंद्र को नोटिस जारी
Next articleजौनपुर : शाहगंज कोतवाली के दरोगा समेत पांच पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏