बढ़ते कोरोना के बीच तेजी से मर रही है लोगों की मानवीय संवेदना…

बढ़ते कोरोना के बीच तेजी से मर रही है लोगों की मानवीय संवेदना…

# गोरखपुर के बाद लखनऊ में भी शर्मनाक मंजर आया सामने

# पिता ने खुद खोदी कब्र, बेटे का शव अकेले कंधे पर ले जाकर दफनाया

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                  कोरोना महामारी के बीच खराब स्वास्थ व्यवस्था एवं सरकारी कर्मियों की लापरवाही की चर्चा जहां आम होती जा रही है, वहीं कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के साथ-साथ लोगों की मानवीय संवेदनाएं भी खत्म होने लगी हैं। कोरोना के खौफ के कारण पड़ोसी ही नहीं बल्कि करीबी रिश्तेदार भी साथ छोड़ रहे हैं। कुछ ऐसा नज़ारा गत दिनों गोरखपुर में देखने को मिला जहां एक शिक्षक व उनके पुत्र की कोरोना से मृत्यु के बाद शव को कंधा देने के लिए चार लोग भी नहीं सामने आए वहीं राजधानी लखनऊ में भी ऐसा शर्मनाक मंजर देखने को मिला जब एक पिता को खुद कब्र खोदकर अपने बच्चे का शव दफनाना पड़ा।

“तहलका 24×7” पर कल चली गोरखपुर की खबर

लखनऊ के चिनहट के लौलाई उप केंद्र के पास यह शर्मनाक मामला सामने आया, जहां लाचार पिता के 13 वर्षीय बेटे की मौत हो गई। कोरोना संक्रमण के डर से समाज का एक भी शख्स शव को कंधा देने आगे नहीं आया। मजबूरी में बुजुर्ग पिता को अकेले कंधे पर शव को लेकर जाना पड़ा। लौलाई उप केंद्र के पीछे नाले के पास लाचार बेबस पिता ने खुद ही कब्र खोदी, फिर बेटे की लाश को दफन किया। इस दौरान न कोई करीबी रिश्तेदार मौजूद था और न ही आस-पड़ोस का कोई व्यक्ति नजर आया। 
बेटे के गम में रो-रोकर बदहवास सूरजपाल ने बताया कि हफ्ते भर पहले बेटे को बुखार आया था, घर में ही इलाज चल रहा था, लेकिन दो दिन पहले हालत बिगड़ गई जिससे उसकी मौत हो गई। सूरजपाल ने बताया कि बेटे की मौत की खबर सुनकर कोई नहीं आया। पड़ोसी आपस में बेटे की मौत की चर्चा करते रहे लेकिन कंधा देने कोई नहीं आया।
Apr 18, 2021

Previous articleआक्सीजन व इलाज के लिए गिड़गिड़ाते रह गए पत्रकार विनय श्रीवास्तव, हुई दर्दनाक मौत 
Next articleलखनऊ : 9 जिलों के 20 पोलिंग बूथों पर राज्य निर्वाचन आयुक्त का पुनर्मतदान कराने के निर्देश
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏