बाराबंकी में सड़क किनारे खड़ी बस में ट्रेलर ने पीछे से मारी टक्कर, 18 लोगों की मौत

बाराबंकी में सड़क किनारे खड़ी बस में ट्रेलर ने पीछे से मारी टक्कर, 18 लोगों की मौत

# कई लोग बस में फंसे, गंभीर रूप से घायलों को किया गया लखनऊ रेफर

# प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री ने जताया हादसे पर दुःख

लखनऊ/बाराबंकी।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
              राजधानी से सटे बाराबंकी जिले के रामसनेही घाट थाना क्षेत्र में कल्याणी नदी हाइवे पर पुल के पास खड़ी वॉल्वो बस (डबल डेकर) में बीती देर रात ट्रेलर (ट्रक) द्वारा टक्कर मारे जाने से इस भीषण हादसे में कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई तथा कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों के लिए मुआवजे की घोषणा की है।
खबर है कि कई यात्री बस में बुरी तरह से फंस गए, जिन्हें निकालने में पुलिस-प्रशासन जुटा हुआ था। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, कई गंभीर घायलों लखनऊ रेफर किया गया है। एक्सल टूटने से बस खराब होने के चलते रोड किनारे खड़ी थी। बस के अंदर और आगे की तरफ यात्री बैठे व लेटे हुए थे। हरियाणा से बिहार जा रही थी वॉल्वो बस में सवार यात्रियों में ज्यादातर बिहार के मजदूर थे जो घर वापस जा रहे थे। लखनऊ की ओर से जा रहे ट्रेलर ने बस में पीछे से टक्कर मारी, टक्‍कर इतनी जबरदस्‍त थी क‍ि हादसे में 11लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई जबकि 7 ने अस्पताल ले जाए जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख जताया है। उन्होने ट्वीट कर लिखा, यूपी के बाराबंकी में हुए सड़क हादसे की खबर से बहुत दुखी हूं। शोकाकुल परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं, अभी मुख्यमंत्री योगी जी से बात हुई है। प्रधानमंत्री ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार की मदद दिए जाने की घोषणा की है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुर्घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होने हादसे में घायल लोगों का समुचित इलाज किए जाने व प्रभावित लोगों की हर संभव मदद किए जाने के निर्देश दिए है।

# बारिश के बीच पुलिस ने लोगों को बस से निकाला…

सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने स्थानीय लोगों की मदद से शवों को हाइवे से हटाया और घायलों को अस्पताल भिजवाया। हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया। घटना के बाद हाइवे पर वाहनों की लंबी कतार लग गई, इससे कई किलोमीटर तक लंबा जाम लग गया। हादसे के कुछ देर बाद ही तेज बारिश शुरू हो गई। बाराबंकी के एसपी यमुना प्रसाद, एसडीएम जितेंद्र कटियार और सीओ पंकज सिंह के नेतृत्व में बारिश के बीच ही पुलिस टीम ने स्थानीय लोगों की मदद से शवों को निकलवाने और घायलों को अस्पताल भिजवाने का काम शुरू किया। बस में सवार सभी यात्री बिहार के सीतामढ़ी, सुपौल सहित अलग-अलग जिलों के रहने वाले हैं।एडीजी जोन (लखनऊ) एसएन सावंत ने भी जिला अस्पताल पहुंचकर घायलों का हालचाल लिया। बताया जा रहा है कि बस में 40 लोग सवार थे, हादसा रात 12 बजे के करीब हुआ।
खबर लिखे जाने तक जिन‌ मृतकों की शिनाख्त हो गई थी, उनमें सुरेश यादव (35 वर्ष), इन्दल महतो (25 वर्ष), सिकन्दर मुखिया (40 वर्ष), मोनू सहानी (30 वर्ष), जगदीश सहानी (40 वर्ष), जय बहादुर सहानी (40 वर्ष), बैजनाथ राम (55 वर्ष), बलराम (55 वर्ष) शामिल हैं।
Previous articleजौनपुर : सरकार व्यापारियों को देख रही है उपेक्षा भरी नजरों से- बनवारी लाल
Next articleसुल्तानपुर : कम्प्यूटर सेंटर का ताला चटका कर लाखों की चोरी
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏