बाहुबली मुख्तार अंसारी एंबुलेंस मामले में डाॅ अलका राय मऊ से गिरफ्तार

बाहुबली मुख्तार अंसारी एंबुलेंस मामले में डाॅ अलका राय मऊ से गिरफ्तार

# बाराबंकी पुलिस ने एसएन राय को भी किया गिरफ्तार, और भी होंगी गिरफ्तारियां..

# इसी एंबुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेशी पर गया था बाहुबली

लखनऊ/बाराबंकी।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी एंबुलेंस मामले में बाराबंकी पुलिस ने मऊ से संजीवनी हाॅस्पिटल की संचालिका डा. अल्का राय व एसएन राय को गिरफ्तार किया है, जिन्हे आज कोर्ट में पेश किया जाएगा। बताते चलें कि इसी एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपण जेल से मोहाली कोर्ट में पेशी पर गया था। बाद में बाराबंकी के नंबर वाली ये एंबुलेंस 4 अप्रैल को चंडीगढ़-ऊना हाइवे पर एक ढाबे पर लावारिश खड़ी मिली थी।

डाॅ अलका राय व एसएन राय की गिरफ्तारी एंबुलेंस का फर्जी कागजात के आधार पर रजिस्ट्रेशन कराने का आरोप में पूर्व में गिरफ्तार हो चुके अभियुक्त राजनाथ यादव से पूछताछ के आधार पर ही बाराबंकी पुलिस ने की है। इस मामले में बाराबंकी पुलिस ने आईपीसी की धारा 419, 420, 467, 468 एवं 120बी के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद के अनुसार एसआईटी जांच के बाद यह गिरफ्तारी की गई है, डॉ. अलका राय पर फर्जी दस्तावेज के आधार पर एम्बुलेंस का पंजीकरण कराने का आरोप है।

बताते चलें कि मामला सामने आने के बाद डॉ. अलका राय ने कहा था कि मुख्तार अंसारी के लोगों ने जबरन उनसे कागजात पर हस्ताक्षर करवाए थे। अलका राय के बयान के आधार पर बाराबंकी पुलिस ने मुख्तार अंसारी के खिलाफ भी साजिश और जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया है। मुख्तार को 120बी का आरोपी बनाया गया है।

आखिर डाॅ अलका राय की गिरफ्तारी हो ही गई

# एंबुलेंस मामले में मुख्तार अंसारी भी आरोपी…

दरअसल, जिस एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी को मोहाली की कोर्ट में पेश किया गया था, उस पर बाराबंकी का नंबर पड़ा हुआ था। छानबीन करने पर पता चला कि इस एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन बाराबंकी में जिस निजी अस्पताल के नाम से हुआ, उस नाम का अस्पताल बाराबंकी में‌ है नहीं न ही उस पते पर डॉ. अलका राय रहतीं, जो एंबुलेंस की आरसी पर दर्ज है। पुलिस ने जांच शुरू की तो डॉ. अलका राय का पता मऊ जनपद में मिला। 

बाहुबली मुख्तार अंसारी को हाल ही में कड़ी सुरक्षा के बीच पंजाब के रोपड़ जेल से बांदा जेल लाया गया है। बाराबंकी पुलिस का कहना था कि मऊ के श्याम संजीवनी अस्पताल एवं रिसर्च सेन्टर की डॉक्टर अलका राय, उनके सहयोगी डॉक्टर शेषनाथ राय, मुख्तार अंसारी, मुजाहिद, राजनाथ यादव और अन्य ने आपराधिक षड़यंत्र में कूटरचित दस्तावेज तैयार किए थे।
Apr 20, 2021

Previous articleक्या कपूर, लौंग, अजवाइन और यूकेलिप्टस के तेल से ऑक्सीजन लेबल बढ़ सकता है? जानें सच्चाई…
Next articleहाईकोर्ट के पूर्ण लाॅकडाउन के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏