बीत गए जो साल…

बीत गए जो साल…

# युवा रचनाकार रूद्र त्रिपाठी की नवीन कृति

बीत गए जो साल सत्तावन,
थे अनमोल क्षण जीवन के।
खो दिए है कुछ बिना समझे,
वो याद आएं दिन बचपन के।।
साथी संगी सब साथ खेलते,
दिन भूले नहीं है, संगठन के।
बाप कमाता, हम फिरे घूमते,
भूले नहीं दिन रहन-सहन के।।
छोड़ पढ़ाई निकल पड़े कमाने,
दो पैसे खुद को इकट्ठे करने थे।
कर्म विधाता, जो लिखे लेख में,
वो सब खाली पन्ने ही भरने थे।।
सांसारिक सुखों में पड़कर जब,
सब अपना पराया ही भूल गए।
दो पाटन सी इस जिंदगी में देखें,
कितनी बार अधर में झूल गए।।
हर बार वक्त कुछ लेता करवट,
कुछ नये सबक ही सिखाने को।
जो देखा ना हो ज़िन्दगी में हम,
सबकुछ ज़िन्दगी में दिखाने को।।
ठोकर खाकर हर बार संभलते,
हम ढ़ंग बदलते रहते चलने के।
अब जो भी आएं “हंसमुख” दिन
वो दिन होगे सुख-दुख सहने के।।
लेखक : रुद्र त्रिपाठी
डायरेक्टर : रूद्र कोचिंग क्लासेज
प्रबंधक : सेंट बीन स्कूल
मीडिया प्रभारी : धार्मिक सेवा समिति महमदपुर उनुरखा कादीपुर
जनपद सुल्तानपुर
📱+919453789608

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : चोरों ने पार किया बाइक
Next articleजौनपुर : प्रजापति समाज की पीड़ा को लेकर राज्यमंत्री से मिले युवा समाजसेवी
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏