भाजपा विधायक ने बेटे की कोरोना से हुई मौत को बताया अस्पताल का षड़यंत्र..

भाजपा विधायक ने बेटे की कोरोना से हुई मौत को बताया अस्पताल का षड़यंत्र..

# घरवाले सिलेंडर लिए खड़े रहे, पैक्सपैड निदेशक की तड़प-तड़प कर हो गई मृत्यु

# विधायक ने एफआईआर के लिए दी तहरीर, पुलिस ने पत्र‌ सीएमओ के पास भेजा

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                 संडीला से भाजपा विधायक राजकुमार अग्रवाल के छोटे बेटे पैक्सपैड के निदेशक आशीष अग्रवाल उर्फ बिल्लू (38 वर्ष) की दो दिन पहले कोरोना से हुई मौत के मामले में विधायक ने पुत्र की मौत के लिए निजी अस्पताल के प्रबंधन को जिम्मेदार बताते हुए एफआईआर दर्ज किए जाने के लिए कोकोरी थाने में तहरीर दी है। विधायक राजकुमार अग्रवाल ने तो बेटे की मौत के पीछे अस्पताल प्रबंधन के षड़यंत्र की आशंका व्यक्त की है। पुलिस ने इस संबंध में सीएमओ से राय मांगी है।


बताते चलें कि हरदोई के सण्डीला से भाजपा विधायक राजकुमार अग्रवाल के छोटे बेटे जो पैक्सपैड के निदेशक थे एवं भाजपा सहकारिता प्रकोष्ठ के अवध क्षेत्र के संयोजक भी थे, की कोरोना जांच रिपोर्ट 16 अप्रैल को पाॅजिटिव आने के बाद कई दिनों तक घर में ही होम क्वारंटीन रहे। फिर तबियत बिगड़ने पर उन्हे काकोरी थाना क्षेत्र के बसंत कुंज स्थित प्राइवेट अस्पताल अभिव में 24 अप्रैल को भर्ती कराया गया था, जहां 26 अप्रैल को उनका निधन हो गया। विधायक राजकुमार अग्रवाल ने अपने बेटे की मौत को लेकर अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाया है।

 

                     अब यादें शेष: आशीष अग्रवाल (फाइल फोटो)

उन्होने काकोरी पुलिस को कार्रवाई हेतु तहरीर दी है, जिसमें कहा गया है कि आशीष को अभिव हाॅस्पिटल में भर्ती कराया गया था। 26 अप्रैल को सुबह 7-30 बजे बताया गया कि अस्पताल में आक्सीजन समाप्त हो गई है। इसके बाद अस्पताल से तीमारदारों को बाहर निकाल कर गेट पर ताला डाल दिया गया। विधायक ने तहरीर में लिखा है कि मेरा बड़ा पुत्र संजय अग्रवाल वहां मौजूद था, उसने डाक्टर नदीम नकवी से मिलकर अपने पास मौजूद आक्सीजन सिलेंडर देने के लिए कहा परन्तु परिवार वालों के बार-बार कहने के बावजूद डाक्टर नदीम नकवी ने सिलेंडर लेने से इंकार कर दिया और उनके पुत्र की तड़प-तड़प कर मौत हो गई।


विधायक का कहना है कि इस अस्पताल में लापरवाही के चलते कई और लोगों की भी मौत हो चुकी है। उन्होनें पुलिस से अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज व हार्डडिस्क कब्जे में लेकर कार्यवाही किए जाने की मांग की है। इंस्पेक्टर काकोरी का कहना है कि विधायक का पत्र चिकित्सीय जांच हेतु सीएमओ को भेजा गया है, वहां से जवाब आने पर नियमानुसार विधिक कार्रवाई की जाएगी।
Apr 28, 2021

Previous articleजौनपुर : कोविड-19 जाँच के लिए सीएचसी पर उमड़ी भीड़
Next articleजौनपुर : पूर्व विधायक जावेद अंसारी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा आयोजित
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏