भाषा का सरताज है हिंदी…

भाषा का सरताज है हिंदी…

# हिंदी दिवस पर बीआरपी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ सुभाष सिंह की नवीन कृति..

भाषा का सरताज है हिंदी..
निजभारत का नाज़ है हिंदी..
फूलों में एक कमल है हिंदी..
कार्य रूप में सरल है हिंदी..
प्रातः रमणीक भोर है हिंदी..
भारत में सिरमौर है हिंदी..
काव्य सृजन में प्रभाव है हिंदी..
स्नेहिल सा एक भाव है हिंदी..
हीरों में कोहिनूर है हिंदी..
भारत का गुरुर है हिंदी..
नूपुर की झंकार है हिंदी..
साहित्य का अलंकार है हिंदी..
भावों में अनुराग है हिंदी ..
संस्कृति का चिराग है हिंदी..
मौन मुखर आवाज है हिंदी..
देश प्रेम का आगाज़ है हिंदी..
हिंदी दिवस की शुभकामनाएं..
Previous articleजौनपुर : भाजपा में दलित है स्टैचू की भांति, बसपा बन चुकी है धनउगाही की दुकान- इन्द्रजीत
Next articleजौनपुर : आधुनिक विधि से हुआ कूल्हे का सफल प्रत्यारोपण
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏