मधुमक्खियों के हमले में बुजुर्ग की मौत, बच्ची सहित तीन घायल

मधुमक्खियों के हमले में बुजुर्ग की मौत, बच्ची सहित तीन घायल

# बंदर द्वारा पेड़ की डाल हिलाए जाने से छत्ता 84 कोसी परिक्रमा के श्रद्धालुओं पर जा गिरा

लखनऊ/हरदोई।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
              हरदोई जिले के बेनीगंज क्षेत्र में 84 कोसी परिक्रमा में शामिल श्रद्धालुओं पर मधुमक्खियों के झुंड ने हमला कर दिया, जिसमें बुलंदशहर जिले के महमूदपुर कला निवासी 72 वर्षीय बुजुर्ग दिगंबर सिंह की मौत हो गई, जबकि एक बच्ची समेत तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। दिगंबर सिंह पिछले कई साल से 84 कोसी परिक्रमा में शामिल होने के लिए आ रहे थे। बंदर द्वारा पेड़ की डाल हिलाने से उसमें लगे मधुमक्खी के छत्ते की मधुमक्खियों ने पेड़ के नीचे आराम कर रहे लोगों पर हमला कर उन्हे बुरी तरह से काटा तथा पीड़ितों के शरीर में मधुमक्खियां चिपक गईं थीं।

इस बार दिगंबर सिंह पोती बादल के साथ परिक्रमा में शामिल होने आए थे। अन्य श्रद्धालुओं के साथ वह बुधवार शाम बरौली के बाग में पहुंचकर आराम कर रहे थे, तभी जिस पेड़ के नीचे ये श्रद्धालु बैठे हुए थे, उसी की डाल में मधुमक्खियों का एक बड़ा छत्ता लगा हुआ था। इसी दौरान एक बंदर ने उस डाल को हिला दिया, जिसके बाद मधुमक्खियों ने हमला बोल दिया। मधुमक्खियों का हमला इतना जबरदस्त था कि दिगंबर सिंह की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि ग्राम हर्रेया निवासी भइयालाल (45 वर्ष) के अलावा बहराइच जिले के हरिहार थाना क्षेत्र के ग्राम मटेहरा कला निवासी रामरतन (60 वर्ष) और अनीता (11 वर्षीय) भी घायल हो गई। घायल बच्ची समेत तीनों को कोथावां सीएचसी में भर्ती कराया गया, चिकित्साधिकारी के अनुसार घायलों की स्थिति सामान्य है।

श्रद्धालुओं ने बताया कि बंदर ने पेड़ की डाल हिला दी जिससे छत्ता दिगंबर सिंह लोधी के ऊपर गिर गया, जिससे वह पूरी तरह से मधुमक्खियों की चपेट में आ गए, उनके सीने व पूरे शरीर पर मधुमक्खियां चिपक गईं और उनके काटने से उनकी मृत्यु हो गई तथा पड़ाव में भगदड़ मच गई। मौके पर मौजूद लोगों और टीम ने उन्हे कोथावां सीएचसी पहुंचाया, जहां पर आधार कार्ड से डिगंबर सिंह लोधी की पहचान हुई। यह 84 कोसी परिक्रमा सीतापुर जिले के नैमिषारण्य स्थल से शुरू होती है, जिसे प्रत्येक वर्ष आयोजित किया जाता है।

इस घटना के बाद परिक्रमा स्थल की व्यवस्थाओं पर भी सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। प्रदेश सरकार ने पहले ही किसी तरह की अव्यवस्थाओं से बचने के निर्देश दिए थे। सभी श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की तकलीफ ना हो, उसका पूरा इंतजाम करने की बात कही गई थी।
Mar 18, 2021

Previous articleजौनपुर : अच्छी शिक्षा से ही समाज व देश में होगा परिवर्तन- गिरीश यादव
Next articleजौनपुर : जेसीआई जौनपुर चेतना द्वारा ईपीएस का कराया गया प्रशिक्षण
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏