“माफिया का बदलता स्वरूप- 23” वरिष्ठ पत्रकार कैलाश नाथ सिंह जी की ब़ेबाक कलम से..

“माफिया का बदलता स्वरूप- 23” वरिष्ठ पत्रकार कैलाश नाथ सिंह जी की ब़ेबाक कलम से..

# शासन-प्रशासन से जारी नोटिस और कम्पाउंड फीस को लेकर बड़े भू-माफ़िया और अपने क्षेत्रों के लतमरुआ पहलवान हैं गफ़लत में..

# रिटायर होने एक दशक बाद भी ज़मीन का बैंकर बना है करिश्माई लेखपाल

# क्रेता और विक्रेता दोनों को फंसाकर खून की तरह निचोड़ लेता है पैसा

# काली कमाई वालों को करिश्माई लेखपाल उतारता रहा अपने शीशे में…

जौनपुर।
तहलका 24×7
              पुरानी कहावत है कि देवी लक्ष्मी की सवारी है उल्लू.. यह यूं ही नहीं बनी है पुरखों ने इसे प्रायोगिक तौर पर देखने के बाद मैदान में उतारा है। बानगी देखिए.. इसका लाभ सदर तहसील में अपनी तैनाती के दौरान से लेने वाले करिश्माई लेखपाल ने जो सिलसिला शुरू किया वह रिटायर होने के बाद भी कायम है। दरअसल भुक्तभोगी उसे ज़मीन का कीड़ा कहते हैं लेकिन है यह ज़मीन रूपी बरगद का दीमक…

वर्ष 1956 में बनी प्रदेश स्तरीय महायोजना के भूमिगत बस्ते में जाने के बाद 1980 के दशक में ठाकुर कमला प्रसाद सिंह के सांसद रहते वाजिदपुर में झील में पिकनिक स्पॉट का मसौदा बना.. पर, अधूरा रह गया। अब सुप्रीम कोर्ट की रूलिंग से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने जिलाधिकारियों, सचिव आदि के जरिये पड़ताल कर राजस्व जुटाने का काम शुरू किया तो अकेले जौनपुर में सैकड़ों एकड़ जमीन मिली और उन पर काबिज लोगों को नोटिस तामील होने लगी। दिलचस्प पहलू देखिए, इन ज़मीनों के कथित किसान जो ज़मीदारों से रुक्का और चुटकी से मालिक बने थे उन्हें तत्कालीन सरकार मुआवजा तो दे दिया था लेकिन धरातल व कागज़ी तौर पर कब्ज़ा नहीं लिया।
हालांकि कालांतर में झील, नाला आदि की ज़मीन की नवैयत बदलकर ग्रीनलैंड, पार्क, खुला क्षेत्र के रूप में दर्ज हो गई। अब यह सरकार की ज़मीन उसी तरह हुई जैसे गांवों में ग्राम समाज की होती है। यदि रचनात्मक प्रधान हुआ या कोई गांव का ही सक्रिय हुआ तो आज भी यही सरकारी मशीनरी सक्रिय होकर बने भवन तक गिरा देती है। यहां ज़मीनों की तिजारत का ठेकेदार वही करिश्माई लेखपाल बन गया। अभी हाल के वर्षों में उसी ने एक सम्भ्रांत किंतु धनाढ्य को सई, गोमती का पठार बेच दिया। इसने ही कलेक्ट्रेट कैम्पस की सड़क एक के नाम कर दी यह ज़मीन को शतरंज सरीखे खेलता रहा है।

खैर, झील का दिलचस्प पहलू देखिए.. उन कथित किसानों जिनके नाम ज़मीन थी लेकिन वह मुआवजा सरकार से पा चुके थे, उन्हें इसी लेखपाल ने रुपयों का लालच देकर औने पौने दाम पर ज़मीन का ओलम्पिक आयोजित कर दिया जिसका खेल हाल के दिनों तक जारी रहा।
आज़ भी काली कमाई करने वाले भू-माफ़िया इसी गफ़लत में हैं कि उन्होंने ज़मीन बैनामा लिया है। ऐसे जिलाधिकारी आते जाते रहते हैं। अब तक कीमती पान से काम सरकता आया लेकिन वर्तमान डीएम सादा पान भी नहीं खाते। 1600 लोगों को दी जाने वाली नोटिस एवं सभी कार्रवाई का लेखा-जोखा प्रदेश शासन को निरन्तर भेजा जा रहा है। फिर भी गफ़लत में जी रहे बड़े भू-माफ़िया छोटों से वसूली ज़मीन बचाने के नाम पर कर रहे। ये सब सरकारी जमीन पर विभिन्न व्यवसायों के जरिये आमजन का रक्त जोंक सरीखे निचोड़ रहे हालांकि, ये एनाकोंडा और मगरमच्छ हैं।  क्रमशः……..
Previous articleवाराणसी : पत्रकार हत्याकांड में हत्यारों की गिरफ्तारी न होने पर चोलापुर थाना प्रभारी निलंबित
Next articleजौनपुर : दुकानदार को गोली मारने वाला मनबढ़ युवक पुलिस की पकड़ से दूर
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏