“मोदी लहर के सहारे न रहें” वाली बात पहुंची जम्मू से दिल्ली

“मोदी लहर के सहारे न रहें” वाली बात पहुंची जम्मू से दिल्ली

# भारतीय जनता पार्टी के लिए खतरे की घंटी, पार्टी का शीर्ष नेतृत्व हुआ गंभीर

जम्मू।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7
                     जम्मू के आरएस पुरा में भाजपा की ओर से आयोजित बुद्धिजीवियों की बैठक में महंगाई, बेरोजगारी को लेकर पार्टी के खिलाफ आक्रोश ने आगामी विधानसभा चुनाव में सरकार बनाने के भगवा ब्रिगेड के सपने के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू न चलने की बात सामने आने के बाद पार्टी नेतृत्व और आरएसएस की चिंताएं बढ़ी हैं। कहा जा रहा है कि यह रिपोर्ट भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष भी पहुंची है। शीर्ष नेतृत्व प्रदेश में कद्दावर नेता की तलाश कर रहा है जो चुनावी वैतरणी को पार लगा सके। इसके लिए पार्टी के बाहर के लोगों में भी संभावनाएं तलाशी जा रही हैं।
बता दें कि, केंद्र की भाजपा सरकार सही दिशा में जा रही है या इसमें सुधार करने की जरूरत है… इसको लेकर जम्मू-कश्मीर में भाजपा की आरएस पुरा इकाई की तरफ से क्षेत्र के बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर उनकी राय जानी गई थी। बैठक में क्षेत्र के बुद्धिजीवियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में होने वाले चुनाव में भाजपा इस बार मोदी लहर के सहारे न रहे क्योंकि सरकार की नीतियों से जनता नाराज है। प्रदेश में बढ़ती महंगाई को लेकर सरकार ने कोई भी नीति नहीं बनाई है। कई कार्य अधर में लटके हैं। सतवारी से आरएस पुरा तक आने वाले मार्ग का निर्माण धीमी गति से चल रहा है। मुख्य बस स्टैंड के लिए भी कोई भी कदम नहीं उठाया गया है।
आम जनता भाजपा के फैसलों से काफी दुखी है। पेट्रोल, डीजल, गैस सिलिंडर और खाद्य सामग्रियों की कीमतें बेतहाशा बढ़ रही हैं। बेतहाशा मंहगाई ने आम लोगों का बजट बिगाड़कर रख दिया है। बैठक में बॉर्डर इलाके के विकास के लिए मोदी सरकार की ओर से किए गए कार्यों, बंकर निर्माण, आरक्षण की दलीलें भी काम न आईं। भाजपा नेताओं ने केंद्र सरकार तक फीडबैक पहुंचाने की दुहाई देकर किसी प्रकार मामले को शांत करने की कोशिश की।
भाजपा से जुड़े सूत्रों ने बताया कि आरएस पुरा की बैठक को पार्टी ने गंभीरता से लिया है। अब तक पार्टी का मानना रहा है कि केंद्र की नीतियों, कल्याणकारी योजनाओं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करिश्माई व्यक्तित्व जम्मू-कश्मीर में सत्ता की राह आसान कर देगा, लेकिन बुद्धिजीवियों ने मोदी लहर को नकारते हुए जनता की परेशानियों की झड़ी लगा दी।

# बंद कमरे से बाहर निकलकर जनता के बीच जाने की हिदायत

सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह व राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के पास जम्मू में पार्टी की नीतियों को लेकर उपजे आक्रोश की रिपोर्ट किसी माध्यम से पहुंची है। केंद्रीय नेतृत्व ने पार्टी के स्थानीय नेताओं से मामले की पूरी जानकारी ली है। साथ ही नेताओं को बंद कमरे से बाहर निकलकर जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर हल करने की हिदायत दी है। साथ ही व्यापक पैमाने पर केंद्र सरकार की नीतियों को घर-घर तक पहुंचाने को कहा है ताकि जनता में बन रही नकारात्मक छवि पर परदा डाला जा सके।
Previous articleदुधमुंहे बच्चे के साथ पति-पत्नी ने गंगा में लगाई छलांग
Next articleसमाजसेवी राजवीर दुर्गवंशी को मुख्यमंत्री ने किया कोरोना योद्धा सम्मान से सम्मानित
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏