यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी, 37 लोगों के शव निकाले गए

यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी, 37 लोगों के शव निकाले गए

# 7 लोगों को ग्रामीणों ने बचाया, अन्य की तलाश जारी: मृतकों में एक बच्चा व 16 महिलाएं

# शार्टकट रास्ता बना हादसे का कारण, दो मंत्री दुर्घटनास्थल पर भेजे गए

# मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की मदद

लखनऊ/भोपाल।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
             मध्य प्रदेश के सीधी में रामपुर नैकिन थाना इलाके में आज सुबह 7:30 बजे एक यात्री बस 30 फीट गहरी नहर में जा गिरी। बस को क्रेन से बाहर निकाला गया, खबर लिखे जाने तक बस से 38 शव निकालकर संजय गांधी अस्पताल भेजे गए हैं। नहर में बहे अन्य यात्रियों की तलाश की जा रही है। 7 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हादसे पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने इस भीषण हादसे के बाद आज होने वाली कैबिनेट की बैठक को स्थगित कर दिया तथा दो मंत्रियों को दुर्घटनास्थल पर भेजा है।


मृतकों में अभी संजय गांधी कॉलेज के सेवानिवृत्त प्रोफेसर हीरालाल शर्मा की शिनाख्त हुई है। आईजी उमेश जोगा ने बताया कि इसके पहले हादसे के तुरंत बाद तैरकर बाहर आ रहे 7 लोगों को ग्रामीणों ने बचा लिया। नहर इतनी गहरी है कि बस पूरी तरह उसमें डूब गई, गोताखोरों और पुलिस प्रशासन ने बड़ी मशक्कत के बाद उसे पानी में खोज निकाला, क्रेन के जरिए बस को बाहर निकाल लिया गया। दो मंत्री तुलसीराम पटेल और रामखेलावन पटेल घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।

बस सीधी से सतना जा रही थी। घटना के बाद आसपास के ग्रामीण बस में फंसे लोगों को बाहर निकालने में जुटे। बस में सवार लोगों के स्वजन भी मौके पर पहुंच रहे हैं, मौके पर कोहराम मचा हुआ है। बताया जा रहा है कि बस छूहियाघाटी में दो दिन से लगे जाम की वजह से अपने तय रूट से ना जाकर इस मार्ग से जा रही थी। आज परीक्षा होने की वजह से विद्यार्थी इसी बस में सवार थे। दुर्घटनास्थल पर अधिकारी एवं 13 सदस्यीय होमगार्ड व एसडीआरएफ की टीम मौके पर मौजूद है। नहर के जलस्तर स्तर को कम करने के लिए बाणसागर की ओर से आने वाले पानी को भी रोक दिया गया है।

पुलिस की मानें तो ड्राइवर ने नियमित रूट पर लगने वाले जाम से बचने के लिए शॉर्टकट रास्ता चुना था, जो नहर के किनारे से होकर गुजरता है, यह रास्ता काफी संकरा और जोखिम भरा है, फिर भी ड्राइवर ने यात्रियों की जान से खिलवाड़ करते हुए बस को इसी रूट से ले जाने की ठानी। नतीजा यह हुआ कि बस का नियंत्रण बिगड़ा और वह बाणसागर नहर में जा गिरी। मृतकों में एक बच्चा व 16 महिलाएं शामिल हैं।
Feb 16, 2021

Previous articleप्यारेलाल इण्टरप्राइजेज बिलारमऊ पेट्रोल पंप पर CNG की सुविधा शुरू…
Next articleजौनपुर : शिवपाल सिंह यादव का मनाया गया 66वां जन्मदिन
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏