यूपी में एक विवाह ऐसा भी, आए सिर्फ 15 बराती और हो गई 3 लड़कियों की शादी

यूपी में एक विवाह ऐसा भी, आए सिर्फ 15 बराती और हो गई 3 लड़कियों की शादी

लखनऊ/ग्रेटर नोएडा।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के बीच एक बार फिर जहां देश भर में खौफ का माहौल बन रहा है, वहीं दनकौर के चचूला गांव में एक शादी ऐसी भी हुई जिसने लोगों को कोरोना के खतरे के बीच सकारात्मक संदेश दिया है। सिर्फ 15 बरातियों के साथ 3 युवतियों की शादी के चलते कोरोना काल में यह विवाह मिसाल बन गया है, क्योंकि जहां शादी करने पर बैंड, बाजा, बारात के साथ लोग पहुंचते थे, वहां कोरोना ने चंद लोगों की उपस्थिति में शादी करने को मजबूर कर दिया। पिछले वर्ष भी ऐसी कई शादी देखने को मिली थीं और इस वर्ष भी शादी का सीजन आते ही कोरोना ने फिर कोहराम मचाना शुरू कर दिया। ऐसे में कोरोना के बढ़ते शिकंजे के चलते एक बार फिर सादगी पूर्वक विवाह कराया जा रहा है। माना जा रहा है कि इस शादी के जरिये देशभर के लोग सबक लेंगे और बीमारी के प्रति जागरूक रहने के साथ कुछ ऐसा ही करेंगे।

दरअसल, बुलंदशहर जिले के गुलावठी ब्लॉक के ग्राम शेरपुर के जगवीर सिंह खारी अपने तीन बेटे आकाश, विकास व निखिल दूल्हे और 15 बराती सहित गौतमबुद्धनगर जिला के दनकौर क्षेत्र के गांव चचूला में समयपाल नागर के घर पहुंचे। इस बारात में ना बैंड था और ना बाजा। केवल दूल्हा था और सिर्फ 15 बराती थे। इस विवाह में कोविड-19 नियमों का पालन किया गया। यह शादी बिना ताम-झाम के घर में बहुत ही सादगी पूर्ण तरीके से हुई। गांव में यह विवाह कार्यक्रम लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। समयपाल नागर ने अपनी तीन बेटियां रिया, ईषा व कोमल की शादी कोरोना गाइडलाइंस के तहत हुई। गुर्जर समाज के प्रबुद्ध लोगों ने फैसले की बहुत सराहना किया।

पर्यावरण संरक्षण समिति के अध्यक्ष संजय नवादा ने कहा कि गुर्जर समाज के शादी समारोह में होने वाली फिजूलखर्ची रोकने के लिए गांव-गांव बहुत बैठक व पंचायत आयोजित करने के बाद भी समाज नहीं चेता तो अब समय आ गया है समाज फिजूलखर्ची रोक आने वाली पीढ़ी का भविष्य संवारने में धन खर्च करे, न की झूठी शान में..

पर्यावरण संरक्षण समिति के सदस्य मास्टर महकार नागर ने कहा कि कोरोना काल में बहुत कुछ सीखने को मिला है। दादी नानी की कहानी भी याद आने लगी है। दिखावा फिजूलखर्ची से अब बाहर निकलने का समय आ गया है। गुर्जर ही नहीं सभी समाज के लिए समय के अनुसार बदलने की जरूरत है। गुर्जर समाज के फिजूलखर्ची पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

# दिल के अरमां आसुओं में बह गये..

दुल्हन रिया, ईषा, कोमल व दूल्हा आकाश, विकास, निखिल ने बताया कि उनकी एक भी सहेली शादी में नहीं आई। दोस्तों के न आने के मलाल है। उनके तो सारे अरमान कोविड ने धूल दिए।
Previous articleसलाह ! एन-95 मास्क एक लेकिन सर्जिकल या कपड़े के लगाएं दो मास्क, तभी होगा कोरोना संक्रमण से बचाव..
Next articleजौनपुर : प्रमुख सचिव ने जिलाधिकारी के संग किया पीएचसी का औचक निरीक्षण
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏