यूपी में बढ़ते कोरोना पर इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी खबर…

यूपी में बढ़ते कोरोना पर इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी खबर…

# दो से तीन हफ्ते का पूर्ण लॉकडाउन लगाने पर विचार करे सरकार…

# कोर्ट ने कहा कि जीवन रहेगा तो अर्थव्यवस्था भी हो जाएगी दुरूस्त..

# सीएम आफिस भी कोरोना की चपेट में, मुख्यमंत्री ने अपने को किया आइसोलेट

लखनऊ/प्रयागराज।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                 यूपी में बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते इलाहाबाद हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को पूर्ण लाॅकडाउन लगाने पर विचार करने का निर्देश दिया। जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा एवं जस्टिस अजीत कुमार की बेंच ने प्रभावित नगरों में राज्य सरकार को दो या तीन हफ्ते के लिए पूर्ण लाकडाउन लगाने पर विचार करने का निर्देश दिया है।


कोर्ट ने कहा कि सरकार ट्रैकिंग, टेस्टिंग व ट्रीटमेंट योजना में तेजी लाये। खुले मैदानों में अस्थायी अस्पताल बनाकर कोरोना पीड़ितों के इलाज की व्यवस्था का निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा कि अगर कहा जरूरी हो तो संविदा पर स्टाफ तैनात किया जाए।हाईकोर्ट में मामले की अगली सुनवाई 19 अप्रैल को होगी, कोर्ट ने सचिव से हलफनामा मांगा। कोर्ट ने कहा सड़क पर कोई भी व्यक्ति बिना मास्क के दिखायी न दे अन्यथा कोर्ट पुलिस के खिलाफ अवमानना कार्यवाही करेगी। कोर्ट ने कहा सामाजिक धार्मिक आयोजनों में 50 आदमी से अधिक न इकट्ठा हों। कोरोना मामले को लेकर दायर जनहित याचिका पर कोर्ट ने आदेश दिया।


कोर्ट ने कहा नाइट कर्फ्यू या कोरोना कर्फ्यू संक्रमण फैलाव रोकने के छोटे कदम हैं। ये नाइट पार्टी एवं नवरात्रि या रमजान में धार्मिक भीड़ तक सीमित हैं। कोर्ट ने कहा कि नदी में जब तूफान आता है तो बांध उसे रोक नहीं पाते, फिर भी हमे कोरोना संक्रमण को रोकने के प्रयास करने चाहिए। कोर्ट ने कहा दिन में भी गैर जरूरी यातायात को नियंत्रित किया जाये। कोर्ट ने कहा कि जीवन रहेगा तो दोबारा अर्थ व्यवस्था भी दुरूस्त हो जायेगी। कोर्ट ने कहा कि विकास व्यक्तियों के लिए है, जब आदमी ही नहीं रहेंगे तो विकास का क्या अर्थ रह जायेगा।

कोर्ट ने राज्य सरकार की 11 अप्रैल की गाइडलाइंस का सभी जिला प्रशासन को कड़ाई से अमल में लाने का निर्देश दिया। कोर्ट ने 19 अप्रैल को डीएम व सीएमओ प्रयागराज को कोर्ट में हाजिर रहने का दिया निर्देश। कोर्ट ने कैन्टोनमेन्ट जोन को अपडेट करने तथा रैपिड फोर्स को चौकन्ना रहने का निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा हर 48 घंटे में जोन का सेनेटाइजेशन किया जाये। यूपी बोर्ड की आनलाइन परीक्षा दे रहे छात्रों की जांच करने पर बल दिया जाये। कोर्ट ने एसजीपीजीआई लखनऊ की तरह स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में कोरोना आईसीयू बढ़ाने व सुविधाए उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। कोर्ट ने राज्य व केन्द्र सरकार को ऐन्टी वायरल दवाओं के उत्पाद व आपूर्ति बढ़ाने का निर्देश दिया। जरुरी दवाओं की जमाखोरी करने या ब्लैक मार्केटिंग करने वालों पर सख्ती करने का भी निर्देश।

# लखनऊ में आंकड़ा हुआ पांच हजार के पार…

इस बीच यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री कार्यालय के कई अफसरों व अपने सचिव एसपी गोयल के कोरोना पाॅजीटिव हो जाने के चलते अपने को आइसोलेट कर लिया है। मुख्यमंत्री ने खुद ट्वीट कर ये जानकारी देते हुए कहा है कि उन्होने सभी कार्य वर्चुअली शुरू कर दिया है। उधर राजधानी लखनऊ में आज भी कोरोना का कहर बरपा है और आज एक दिन में अब तक के सबसे अधिक 5,382 कोरोना पाॅजीटिव मरीज मिले हैं तथा पिछले 24 घंटे में 18 और लोगों की मौत होने के साथ लखनऊ में अब तक कोरोना से 1,771 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं प्रदेश में आज कोरोना के 18,381 नए मामले सामने आए तथा पिछले 24 घंटे में 85 और मौतों के साथ अब तक यूपी में 9,309 लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है।
Apr 13, 2021

Previous articleसुल्तानपुर : नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी
Next articleकोरोना कहर के चलते सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं की परीक्षा टली
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏