योगी सरकार ने पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों को सौंपा 45 लाख का चेक, एलजेए ने जताया आभार

योगी सरकार ने पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों को सौंपा 45 लाख का चेक, एलजेए ने जताया आभार

# लखीमपुर की हिंसा में मारे गए किसानों व पत्रकार सहित आठों मृतकों के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़

# राहुल गांधी के निर्देश पर पंजाब एवं छत्तीसगढ़ की सरकार का फैसला

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                   यूपी सरकार की ओर से पत्रकार रमन कश्यप के परिजनों को एसडीएम ने बुधवार की शाम निघासन में रमन कश्यप के घर पहुंचकर सौंपा 45 लाख रुपए का चेक सौंपा। लखनऊ जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने हिंसा में मारे गए साधना न्यूज चैनल के पत्रकार रमन कश्यप सहित सभी मृतकों के परिजनों को योगी सरकार द्वारा 45 लाख, कांग्रेस की पंजाब एवं छत्तीसगढ़ की सरकार द्वारा 50-50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने के निर्णय पर यूपी, पंजाब एंव छत्तीसगढ़ राज्य सरकारों एवं राहुल गांधी का आभार व्यक्त किया।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व सांसद राहुल गांधी के सलाह पर पंजाब एवं छत्तीसगढ़ की सरकार ने लखीमपुर की हिंसा में मारे गए चार किसानों एवं पत्रकार रमन कश्यप सहित आठों मृतकों के परिजनों को पचास-पचास लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने का निर्णय लिया है। इस बात की जानकारी दिल्ली से इंडिगों की फ्लाइट में राहुल गांधी के साथ लखनऊ आए पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी एवं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मीडिया को खुद दी।

दोनों मुख्यमंत्रियों ने बताया कि राहुल गांधी ने उनसे कहा कि आपके प्रदेश भी कृषि प्रधान हैं और किसानों के साथ उन्हे पूरी तरह खड़े होना चाहिए और उनकी मदद करें। बताते चलें कि इससे पूर्व यूपी सरकार ने 45-45 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया था, दो मृत किसानों के परिजनों एंव पत्रकार के परिजनों को चेक दिए जा चुके हैं।

# झड़प में इनकी हुई है मौत

1- रमन कश्यप ( स्थानीय पत्रकार)
2- दलजीत सिंह (32 वर्ष) पुत्र हरजीत सिंह- नापपारा, बहराइच (किसान)।
3- गुरविंदर सिंह (20 वर्ष) पुत्र सत्यवीर सिंह- नानपारा, बहराइच (किसान)।
4- लवप्रीत सिंह (20 वर्ष) पुत्र सतनाम सिंह- चौखडा फार्म मझगईं (किसान)।
5- छत्र सिंह पुत्र अज्ञात (किसान)।
6- शुभम मिश्र पुत्र विजय कुमार मिश्र, शिवपुरी (भाजपा नेता)।
7- हरिओम मिश्र पुत्र परसेहरा, फरधान (अजय मिश्रा का ड्राइवर)।
8- श्यामसुंदर पुत्र बालक राम सिंघहा, कलां सिंगाही (भाजपा कार्यकर्ता)
Previous articleकिसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट को लेकर विवाद, अंतिम संस्कार से इंकार
Next articleउत्तराखंड : कोरोना काल में सामाजिक संगठनों का योगदान अभूतपूर्व- अशोक कुमार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏