रेसलर निशा व उसके भाई का हत्यारा कोच पवन साले के साथ दिल्ली से गिरफ्तार

रेसलर निशा व उसके भाई का हत्यारा कोच पवन साले के साथ दिल्ली से गिरफ्तार

# हत्या में प्रयुक्त पिस्टल बरामद, पत्नी व एक साले की पहले ही हो चुकी है गिरफ्तारी

# निशा को मारी गईं थीं 4 गोलियां, मां का इलाज जारी

लखनऊ/सोनीपत।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                हरियाणा के सोनीपत में बुधवार को रेसलर निशा दहिया व उसके भाई सूरज की गोली मारकर की गई सनसनीखेज हत्या के मामले में आरोपी कोच पवन कुमार की पत्नी व साले की गिरफ्तारी के बाद शुक्रवार को दिल्ली के द्वारिका से कोच पवन व उसके साथी सचिन को भी गिरफ्तार कर लिया गया। इन लोगों के पास से हत्या में प्रयुक्त पिस्टल भी बरामद हुई है। वारदात में घायल निशा की मां धनपती का रोहतक पीजीआई में अभी इलाज चल रहा है।
एक कार्यक्रम में रेसलर निशा (फाइल फोटो)
रेसलर निशा दहिया, उसके भाई की हत्या के बाद आक्रोशित लोगों ने सुशील कुमार के नाम की एकेडमी को आग लगा दी थी। आरोपियों पर एक दिन बाद ही हरियाणा पुलिस की ओर से एक लाख का इनाम घोषित किया गया था। पवन वह सचिन को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा द्वारिका से गिरफ्तार किया गया है। सोनीपत-खरखौदा के गांव हलालपुर में हुई वारदात के मुख्य आरोपी पवन की पत्नी सुजाता व साले अमित को एसआइटी द्वारा पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि निशा को 4 वह उसके भाई को 3 गोलियां मारी गई थीं।
घायल धनपति ने पुलिस को बयान दिया है कि अकादमी संचालक/कोच पवन, उसकी पत्नी सुजाता और दो साले अमित व सचिन ने गोलियां चलाईं। आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी की मांग को लेकर ग्रामीणों ने गुरुवार को हलालपुर में पंचायत भी की थी। पुलिस ने मुख्य आरोपित पवन कुमार व फरार उसके साले सचिन पर एक लाख रुपये के इनाम का एलान किया था। रेसलर निशा के पिता सीआरपीएफ में इंस्पेक्टर हैं।
कोच पवन की पत्नी व साला पुलिस की गिरफ्त में

# छेड़छाड़ का विरोध करने पर हुई हत्या…

हत्या की वजह महिला पहलवान के साथ छेड़खानी का विरोध करना बताया गया है। कोच पवन पिछले चार साल से निशा को कुश्ती सिखा रहा था, परिजनों का आरोप है कि वह निशा पर बुरी नजर रखता था। पिता दयानंद का ये भी आरोप है कि पवन ने उनकी बेटी का ब्रेनवॉश कर दिया था, वह पैसे मांगता रहता था। उन्होने उसे एकेडमी के निर्माण के लिए करीब 3.5 लाख रुपए भी दिए थे। निशा युवा रेसलर थी वह रेसलिंग की दुनिया में अपना नाम कमाना चाहती थी। निशा ने एक बार यूनिवर्सिटी स्तर पर एक मेडल जीता था, और इसकी पुरस्कार राशि 50 हजार रुपए भी कोच के दे दी थी।

Earn Money Online

Previous articleगैंगरेप के मामले में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को आजीवन कारावास
Next articleजौनपुर : संगठन में कोई छोटा-बड़ा नहीं बल्कि सभी एक दूसरे के पूरक- जिलाध्यक्ष
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏