लखीमपुर की हिंसा में मृतकों की संख्या हुई 10, एक पत्रकार की भी हुई मौत…

लखीमपुर की हिंसा में मृतकों की संख्या हुई 10, एक पत्रकार की भी हुई मौत…

# एक घायल ने अस्पताल में तोड़ा दम, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री, उनके बेटे के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज

# प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, चंद्रशेखर आजाद, संजय सिंह व शिवपाल सहित कई नेता एवं सैकड़ों कार्यकर्ता गिरफ्तार

# सपा अध्यक्ष के घर के बाहर पुलिस की जीप फूंकी, लखीमपुर हिंसा की जांच एसटीएफ को सौंपी गई

लखनऊ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                  लखीमपुर-खीरी के तिकुनिया में हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है। मृतकों में साधना न्यूज चैनल के पत्रकार रमन कश्यप भी शामिल हैं। इस बीच खबर है कि एक घायल की अस्पताल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। निघासन निवासी 35 वर्षीय पत्रकार रमन कश्यप साधना न्यूज चैनल के तहसील संवाददाता थे, वे किसानों के साथ घटी घटना की कवरेज करने गए थे। रमन कश्यप के पिता रामदुलारे ने पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर शव की शिनाख्त की। रमन कश्यप की मौत की खबर से पत्रकारों में शोक की लहर दौड़ गई है।
इस बीच लखीमपुर जाने की जिद पर अड़े सपा अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव एवं प्रोफेसर रामगोपाल यादव एवं सैंकड़ों सपा कार्यकर्ताओं को आज सुबह लखनऊ में अखिलेश यादव के घर के बाहर से गिरफ्तार कर लिया गया। यहां पर पुलिस जीप में आग भी लगा दी गई।

# सबसे ज्यादा प्रियंका गांधी ने पुलिस को छकाया…

उधर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा एवं बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को देर रात सीतापुर में हिरासत में ले लिया गया। इससे पूर्व पुलिस ने लखनऊ में एवं इटौंजा टोल प्लाजा पर प्रियंका गांधी को रोकने का असफल प्रयास किया था। प्रियंका गांधी पुलिस को छकाते हुए भारी बारिश के बावजूद सीतापुर तक पहुंच गईं थीं। आप सांसद संजय सिंह, भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद, प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव सहित अनेक विपक्षी नेताओं को हिरासत में लिया जा चुका है। लखीमपुर-खीरी में धारा 144 लगा दी गई है। हिंसा में किसानों की मौत के संबंध में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी” व उनके पुत्र आशीष मिश्रा उर्फ मोनू भैया के खिलाफ देर रात तिकुनिया थाने में हत्या एवं साजिश रचने आदि की गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार कल से ही तिकुनिया में मौजूद हैं।
किसान नेता राकेश टिकैत देर रात सैकड़ों गाड़ियों के काफिले के काफिले के साथ तिकुनिया पहुंच गए, उनके अलावा पुलिस ने अन्य किसी भी नेता के लखीमपुर जाने पर रोक लगा दी है। राकेश टिकैत की अधिकारियों के साथ एक दौर की वार्ता हो चुकी है। उन्होने मृत किसानों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा दिए जाने, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त किए जाने व दोषियों की तत्काल गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद पूरे मामले की लगातार समीक्षा कर रहे हैं। खबर लिखे जाने तक लखनऊ में मुख्यमंत्री अपने आवास पर अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस बीच लखीमपुर हिंसा की जांच एसटीएफ को सौंप दी गई है।
हिंसा की कवरेज के दौरान मृत पत्रकार रमन कश्यप (फाइल फोटो)

# पत्रकार के परिवार को एक करोड़ की मदद दी जाए…

हिंसा में कवरेज के दौरान पत्रकार रमन कश्यप की मौत होने पर लखनऊ जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने गहरा दुःख व्यक्त किया है। उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के कोषाध्यक्ष/एलजेए अध्यक्ष आलोक कुमार त्रिपाठी एवं एलजेए महामंत्री विजय आनंद वर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से रमन कश्यप के परिवार को एक करोड़ रुपए की सहायता दिए जाने एवं धारा 302 के तहत एफआईआर दर्ज कर दोषियों की गिरफ्तारी तथा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिए जाने की मांग की है।
Previous articleजौनपुर : जलजमाव से राहगीरों को हो रही परेशानी
Next articleजौनपुर : भीड़भाड़ वाले मार्ग पर नहीं स्थापित होगी प्रतिमाएं
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏