वाराणसी : छावनी क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने गई टीम के भारी विरोध से बुलडोजर हुआ वापस

वाराणसी : छावनी क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने गई टीम के भारी विरोध से बुलडोजर हुआ वापस

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
             कैंट स्टेशन के विस्तारीकरण और प्रस्तावित एफओबी (फुट ओवरब्रिज) के निर्माण में आड़े आ रहे छावनी क्षेत्र में प्लेटफार्म नंबर 10 के सामने अवैध निर्माण को ढहाने गई टीम को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। कैंट स्टेशन के द्वितीय प्रवेश द्वार के पास स्थानीय लोगों के भारी विरोध के चलते चार जेसीबी और कैंट थाने की फोर्स लौट गई। फिलहाल अतिक्रमण हटाने के अभियान को रोक दिया गया है। क्षेत्रीय विधायक और रेल अधिकारियों के बीच कई राउंड की वार्ता के बाद कुछ चिन्हित कब्जों को गिराने पर सहमति बनी।पूर्व में नोटिस चस्पा करने के बाद शनिवार सुबह रेल अधिकारी द्वितीय प्रवेश द्वार में काबिज लोगों को हटाने पहुंचे।

उन्हें देख सैकड़ों स्थानीय लोग जुट गए। बुलडोजर और जेसीबी के सामने खड़े होकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। मौके पर आरपीएफ, जीआरपी, कैंट थाने की पुलिस और पीएसी के जवान मौजूद रहे। हंगामे की सूचना पर पहुंचे अधिकारियों ने लोगों को समझा-बुझा कर शांत कराया। विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों ने दावा किया कि उनका परिवार यहां 40 वर्षों से अपना जीवन यापन कर रहा है। छावनी क्षेत्र को पानी, सीवर का टैक्स देते हैं। किराए का भुगतान भी करते हैं।  उन्हें इस कार्रवाई के संबंध में कोई नोटिस नहीं मिली। बता दें कि द्वितीय प्रवेश द्वार पर प्रस्तावित फुट ओवर ब्रिज का निर्माण कराने के लिए चिन्हित भूमि खाली कराई जा रही है। मुख्य प्रवेश द्वार से शुरू फुट ओवर ब्रिज द्वितीय प्रवेश द्वार पर उतरेगा। इसकी जद में आए अवैध निर्माण के बाबत पूर्व में ही नोटिस चस्पा किया गया था। बाधक बने अवैध निर्माण के चलते यह परियोजना डेढ़ वर्ष लेट हो गई है।
Previous articleजौनपुर : सिलिंडर फटने से सीमेंट शेड उड़ा, गृहस्थी का सामान जलकर खाक
Next articleआजमगढ़ : डॉक्टर की पत्नी और दो बच्चों को लेकर नौकर फरार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏