वाराणसी : बाढ़ हालात का जायजा लेने पहुंचे सीएम योगी

वाराणसी : बाढ़ हालात का जायजा लेने पहुंचे सीएम योगी

# योगी आदित्यनाथ ने बोट से किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
                वाराणसी में गहराए बाढ़ संकट के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय दौरे पर शहर पहुंच चुके हैं। सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के मैदान में मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर उतरा। हेलीपैड पर मुख्यमंत्री का स्वागत कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, राज्य मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी सहित ज़िले के आला अधिकारियों ने किया। मुख्यमंत्री का काफिला यहां से सीधे राजघाट के लिए रवाना हुआ।
मुख्यमंत्री एनडीआरएफ की बोट द्वारा गंगा और वरुणा में मौजूदा बाढ़ की स्थिति को देखकर बाढ़ पीड़ितों से मिलने जेपी मेहता नगर निगम इंटर कॉलेज पहुंचे। बाढ़ पीड़ितों से हालचाल लेने के साथ ही उन्हें राहत सामाग्री का वितरण भी किया। मुख्यमंत्री ने बाढ़ के बाद होने वाली संक्रामक बीमारियों के संक्रमण की रोकथाम के लिए फागिंग मशीनों का उद्घाटन किया। इसके बाद सर्किट हॉउस में अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों संग समीक्षा बैठक किया।

इधर, मुख्यमंत्री के आगमन से पहले बृहस्पतिवार को सरकारी अमला पूरी तरह से सक्रिय हो गया था। दोपहर तक मुख्यमंत्री के कार्यक्रम स्थलों की ओर अधिकारियों की गाड़ियां दौड़ रही थी। वहीं दूसरी ओर नगर निगम, पीडब्ल्यूडी, जलकल विभाग और बिजली विभाग महीनों से चली आ रही खामियों को घंटों में ही दूर करने में लगा हुआ था। सीएम के काशी आने से पहले ही कज्जाकपुरा स्थित कूड़ा घर को नगर निगम ने हरा परदा लगा कर पूरी तरह से ढंक दिया।

उधर, कज्जाकपुरा तिराहे पर निर्माणाधीन फ्लाई ओवर के आसपास गड्ढे में तब्दील हो चुके सड़क को भी डामर और गिट्टी डालकर पीडब्ल्यूडी के द्वारा दोपहर एक बजे ही दुरुस्त कर दिया गया था। बता दें कि वाराणसी में गंगा खतरे के लेवल से एक मीटर ऊपर बह रही है। गंगा के पलट प्रवाह के कारण वरुणा में आई बाढ़ भी भयावह होती जा रही है। बृहस्तपतिवार सुबह 11 बजे गंगा का जलस्तर 72.32 मीटर दर्ज किया गया, जो खतरे के निशान 71.26 से 1.06 मीटर अधिक है। गंगा और वरुणा के पानी से शहर से लेकर गांव तक 30 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हैं।
Previous articleअलर्ट : सोनभद्र में नगवां बांध के खोले गए 11 में से आठ फाटक
Next articleजौनपुर : गोमती नदी का बढ़ा जलस्तर, केराकत और डोभी के निचले इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏