वाराणसी में विकास की सुस्त चाल : विकास कार्यों की धीमी गति पर कमिश्नर नाराज

वाराणसी में विकास की सुस्त चाल : विकास कार्यों की धीमी गति पर कमिश्नर नाराज

# चीफ इंजीनियर के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखा शासन को पत्र

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
               वाराणसी में विकास कार्यों की सुस्त चाल से कमिश्नर खासा नाराज हैं। शुक्रवार को मंडलीय सभागार में कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने निर्माणाधीन प्रमुख 137 परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। इस दौरान गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के कार्यों में धीमी गति पर कमिश्नर ने नाराजगी जताई और कार्रवाई की चेतावनी दी। परियोजना के चीफ इंजीनियर के विरुद्ध कार्रवाई के लिए शासन को पत्र लिखने का भी निर्देश दिया। कमिश्नर ने कहा कि कार्यों को पूरा करने के लिए बार-बार समय अवधि बढ़ाई जा रही है जो कि संतोषजनक नहीं है।

# 14 परियोजनाएं इसी माह होंगी पूरी

वाराणसी में निर्माणाधीन प्रमुख 137 परियोजनाओं में 29 कार्य पूर्ण हो चुके हैं, 14 कार्य इसी माह पूर्ण हो जाएंगे। समीक्षा में सामने आया कि शेष विकास कार्य इसी वर्ष जुलाई, सितंबर एवं अक्बतूर माह तक पूर्ण होंगे। समीक्षा के दौरान परियोजनाओं से जुड़े अफसरों ने बताया कि केवल 6-7 कार्य ऐसे हैं जो मार्च 2022 तक पूरे होंगे। इस पर कमिश्नर ने समय के अंदर गुणवत्ता का ध्यान रखते हुए विकास कार्य पूरे करने की हिदायत दी।

कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने परियोजनाओं से जुड़े अफसरों से युद्धस्तर पर कार्य करने को कहा। कार्यदायी संस्थाओं में एनएचएआई, सीपीडब्ल्यूडी, ब्रिज कारपोरेशन, गंगा प्रदूषण निर्माण इकाई जल निगम, पीडब्ल्यूडी, यूपी सिडको, राजकीय निर्माण निगम, यूपीपीसीएल, सीएण्डडीएस, आवास विकास, स्मार्ट सिटी आदि शामिल हैं। कमिश्नर ने कहा कि सुरक्षा मानकों का हर स्तर पर विशेष ध्यान रखा जाय।

# जनपद में रोपे जाएंगे 18 लाख पौधे

बृहद पौधरोपण के तहत वाराणसी जनपद में 18 लाख पौधे रोपे जाएंगे। इसके लिए ग्राम पंचायतवार माइक्रो प्लान बनाकर पौधरोपण होगा। कमिश्नर ने ग्रीनपैच विकसित करने पर बल दिया। रोहनिया के पास 2.5 हेक्टेयर में एकीकृत पौधरोपण होगा और एक बड़ा ग्रीनपैच विकसित होगा। कमिश्नर ने पौधों को सुरक्षित व संरक्षित करने पर भी जोर दिया।

# बैठक की प्रमुख बातें

गंगा में चलने वाली 92 नावों को सीएनजी में कन्वर्ट किया जा चुका है। सीएनजी से नाविकों को 50 फीसदी बचत हो रही, नाव चलने की क्षमता में सुधार। जनपद में 11 सीएनजी स्टेशन संचालित, 5500 घरों में घरेलू गैस की आपूर्ति। बीएचयू में 100 बेड एमसीएच विंग 45.5 करोड़ रुपये की लागत से पूरा हुआ।  भारत और जापान की दोस्ती का प्रतीक रुद्राक्ष बनकर तैयार। गोदौलिया पार्किंग इसी माह पूर्ण हो जाएगी। सितंबर में टाउन हॉल पार्किंग तैयार हो जाएगी।

# ये विकास कार्य हो चुके हैं पूरे..

ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर, नारायणपुर मार्ग, कादीपुर से नकई मार्ग, पांडेपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय में 50 बेड महिला अस्पताल, केंद्रीय उच्च तिब्बत शिक्षण संस्थान का कार्य, रामेश्वर में पर्यटन विकास कार्य, कृषि विज्ञान केंद्र कल्लीपुर कार्य, गर्ल्स हॉस्टल अराजी लाइन व कस्तूरबा विद्यालय चिरईगांव, प्राइमरी स्कूल कटरी, महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज के निर्माण कार्य, जिला न्यायालय के निर्माण कार्य, रूपचंदपुर व सीवों पेयजल योजना, मछोदरी स्कूल निर्माण आदि कार्य पूर्ण हो चुके हैं।

# कमिश्नर ने किया इन परियोजनाओं की बिंदुवार समीक्षा

कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बैठक में कुंडो के सुंदरीकरण, संपूर्णानंद स्टेडियम के विकास, दशाश्वमेध घाट के विकास, खिड़कियां घाट परियोजना, पुरानी काशी के वार्डों के विकास कार्य, घाटों पर हेरिटेज साइनेज कार्य, शहर के तालाबों के सुंदरीकरण कार्य, ट्रांस वरुणा कार्य, आईपीडीएस के कार्य, शहर के चौराहों के सौंदर्यीकरण, विभिन्न वाहन पार्किंग कार्यो, गंगा प्रदूषण नियंत्रण के विभिन्न कार्य, पर्यटन विकास के विभिन्न कार्य, जनपद में निर्माणाधीन विभिन्न पुलों, आरओबी, सड़कों के चौड़ीकरण, रिंग रोड निर्माण कार्य आदि की बिंदुवार समीक्षा की। कमिश्नर ने कहा कि कस्तूरबा गांधी विद्यालय के बालिका हॉस्टल, अन्य हॉस्टल एवं बिल्डिंग के निर्माण कार्य जो पूर्ण हो गए हैं कार्यदाई संस्था उन्हें मूल विभाग को तत्काल हैंडओवर करें ताकि जन उपयोगिता में लाया जाए।

# खोदे गए गड्ढे से हुआ हादसा तो होगी एफआईआर

कमिश्नर ने परियोजनाओं के निर्माण कार्य के दौरान खोदे गए गड्ढों के पास सुरक्षा घेरा बनाने का निर्देश दिया। जलनिगम, विद्युत, गेल आदि कार्यदायी संस्थाओं को निर्देशित किया कि शहर आदि क्षेत्र में कार्य के दौरान कोई गड्ढा आदि खोदते हैं तो उसे ठीक से बैरिकेडिंग, लाल फ्लैग चेतावनी आदि से सुरक्षित करें। ताकि कोई हादसा की संभावना नहीं बने।

कमिश्नर ने यह भी चेताया कि यदि किसी कार्यदायी संस्था द्वारा खोदे गए गड्ढे आदि में कोई हादसा होता है तो संबंधित के विरुद्ध एफआईआर होगी। बैठक में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, वीसी वीडीए ईशा दुहन, नगर आयुक्त गौरांग राठी सहित विभिन्न विभागों एवं कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी एवं अभियंता उपस्थित रहे।
Previous articleकोरोना से मरे शिक्षकों की ड्यूटी लगी उपचुनाव में, गज़ब है यूपी का हाल
Next article534 किलो गांजे के साथ तीन अंतर प्रांतीय तस्करों को यूपी एसटीएफ ने दबोचा
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏