वाराणसी स्टेशन के सामने मिली संदिग्ध अटैची, फ्लाईओवर के नीचे रोका गया आवागमन

वाराणसी स्टेशन के सामने मिली संदिग्ध अटैची, फ्लाईओवर के नीचे रोका गया आवागमन

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
                 वाराणसी के कैंट रेलवे स्‍टेशन के पास संदिग्‍ध ब्रीफकेस मिलने से सनसनी फैल गई। बम स्क्वायड टीम ने तत्काल मौके पर जांच शुरू की। किसी आशंकावश आस-पास के क्षेत्र को खाली करा लिया गया। बताया जा रहा है कि कैंट रेलवे स्टेशन मार्ग पर सुबह करीब दस बजे संदिग्ध ब्रीफकेस मिलने की सूचना मिली। जानकारी मिलते ही पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया और बम डिस्पोजल टीम को बुलाया। इस दौरान रास्‍ते से आने जाने वाले लोगों को रोक दिया गया।

बकरीद की नमाज के बाद संदिग्ध अटैची की खबर अधिकारियों को मिली। इलाकाई सिगरा पुलिस और बीडीएस ने मोर्चा सम्हाला और समय रहते लोगों की गति‍विधियों को रोककर ऑपरेशन शुरु किया। जांच के दौरान अटैची से घरेलू जरूरत के सामान और दिनचर्या की वस्तुएं मिली तो सुरक्षा बलों ने राहत की सांस ली। इंग्लिशिया लाइन तिराहे से चंद कदम दूर लहरतारा-चौलाघाट फ्लाईओवर के पिलर संख्या-69 के नीचे कोई राहगीर ब्रीफकेस भूलवश छूट गया था।

मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर अनूप शुक्ल और उप निरीक्षक अनंत कुमार मिश्रा ने उस एरिया को सुरक्षा कारणों से घेर दिया। दोनों ही छोर से वाहनों का आवागमन रोक दिया गया था। मौके पर बीडीएस भी बुलाई गई। स्निफर डॉग ने अटैची को स्पर्श करने के बाद क्लीयरेंस दे दिया। इसके बाद बम डिस्पोजल दस्ते के जवान ने सुरक्षा पूर्वक अटैची को खोल दिया। अंदर से जरूरत की वस्तुएं और कपड़े मिले। तब जाकर लोगों ने राहत की सांस ली।

इससे पहले सुल्तानपुर रेलवे स्टेशन के बाहर परिसर में बुधवार सुबह एक संदिग्ध बैग मिलने से हड़कंप मच गया। संदिग्ध बैग मिलने के बाद पुलिस ने रेलवे परिसर को खाली कराया और बीडीएस टीम बुलाकर जांच की। सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन कुमार मिश्रा ने बताया कि जांच में बैग के अन्दर एक बैटरी और तार के साथ एक पासबुक पायी गयी है। पासबुक से यह पता चला कि यह बैग कानपुर जिले के पनकी निवासी एक निलंबित सिपाही नरेंद्र प्रताप सिंह का है, जो तीन साल से बिना बताए ड्यूटी से लापता है।

उन्होंने बताया कि निलंबित सिपाही नरेंद्र प्रताप सिंह से पूछताछ करने पर उसने बैग में बैटरी और तार होने से इनकार किया। उन्होंने बताया कि यह सिपाही नशे का आदी है और इसे यह भी नहीं पता कि उसका बैग कहां छूट गया और बैग में बैटरी कैसे आयी। इस मामले की जांच की जा रही है। एसपी ने बताया कि तीन साल से बिना बताए ड्यूटी से गायब होने के कारण सिंह निलंबित है और उसे बर्खास्त करने की कार्रवाई की जाएगी।
Previous articleजौनपुर : आज से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए न्यायालय कक्ष में मौजूद रह सकेंगे अधिवक्ता व वादकारी
Next articleप्रयागराज-वाराणसी मार्ग होगा फोर लेन, जाम की समस्या का होगा निदान
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏