वाराणसी : हिन्‍दू जनजागृति समिति ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

वाराणसी : हिन्‍दू जनजागृति समिति ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

वाराणसी।
संजय शुक्ला
तहलका 24×7
                आगामी 10 से 12 सितंबर 2021 की कालावधि में आयोजित अंतरराष्‍ट्र्रीय कॉन्‍फरेन्‍स “डिस्‍मेंटलिंग ग्‍लोबल हिन्‍दुत्‍व” के माध्‍यम से हिन्‍दू धर्म के एक अरब से अधिक अनुयायियों को अमानवीय बताया जा रहा है। 11 सितंबर 2001 को अमेरिका में हुए जिहादी आक्रमण की वास्‍तविकता से संसार का ध्‍यान हटाने के लिए जानबूझकर यह प्रयास किया गया है। शांति, प्रेम, करुणा और समावेशिता की शिक्षा देने वाले हिन्‍दू धर्म को बदनाम करने हेतु आयोजित इस अंतरराष्‍ट्रीय कॉन्‍फरेन्‍स का आयोजन करने वाले, इसमें सहभागिता लेने वाले तथा इस कॉन्‍फरेन्‍स की सहायता करने वालों पर कारवाई की मांग हेतु हिन्‍दू जनजागृति समिति ने अपर नगर जिलाधिकारी सत्‍यप्रकाश सिंह के माध्‍यम से भारत सरकार के गृहमंत्री एवं विदेश मंत्री को सम्बोधित ज्ञापन दिया गया।

इस कार्यक्रम से जुड़े लोगों का हिन्‍दुओं के विरुद्ध किए गए नरसंहारों को नकारने का एक लंबा और सार्वजनिक इतिहास है। ऐसे लोगों के विचार संपूर्ण विश्‍व के विश्‍वविद्यालयों के छात्र तथा कर्मचारी सुनेंगे, यह अत्‍यंत घातक होगा। ज्ञापन देने हेतु हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश उपाध्‍यक्ष मनीष पांडेय, हिंदू जागरण मंच के काशी अध्‍यक्ष अधिवक्‍ता अवनीश राय, हिंदू जागरण मंच के मंत्री अधिवक्‍ता विकास तिवारी, संस्‍कृति रक्षा मंच के रवि श्रीवास्‍तव, अधिवक्‍ता मदन मोहन यादव, अधिवक्‍ता विनय कुमार तिवारी, अधिवक्‍ता रतनदीप सिंह एवं हिंदू जनजागृति समिति के श्री राजन केसरी मौजूद रहे। उक्त जानकारी हिन्‍दू जनजागृति समिति के यूपी व बिहार समन्वयक विश्‍वनाथ कुलकर्णी ने दी।

# ज्ञापन के माध्यम से हिन्‍दू जनजागृति समिति की मांग

1- इस कार्यक्रम के माध्‍यम से हिन्‍दू धर्म तथा हिन्‍दुत्‍व के संदर्भ में अत्‍यंत गलत प्रचार होगा, जिससे भारत में धार्मिक सौहार्द को बाधा पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। इसलिए इस कार्यक्रम में सम्‍मिलित होने वाले भारतीय वक्‍ताओं तथा आयोजकों पर अपराध (गुनाह) प्रविष्‍ट करें।

2- इस कार्यक्रम का जिन विश्‍वविद्यालयों ने समर्थन किया है या प्रायोजित किया है, उन्‍हें भारत सरकार की ओर से पत्र भेजें, जिसमें यह कार्यक्रम भारतीय संस्‍कृति तथा सभ्‍यता का गलत प्रचार करने वाला है, इसलिए यह कार्यक्रम रहित करें या अपना प्रायोजकत्‍व पीछे लें। तब भी कुछ नहीं हुआ, तो भारत सरकार उन सभी देशों से स्पष्टीकरण मांगे।

 

3- इस कार्यक्रम की कार्यसूची (अजेंडा) भारतद्रोही एवं हिन्‍दूद्रोही है। इसलिए नागरिक इस कार्यक्रम में सहभागी न हों, ऐसा भारत सरकार आह्वान करे।
Previous articleजौनपुर : ट्रेन के सामने कूदकर अधेड़ ने दी जान
Next articleपूर्व माध्यमिक विद्यालय सुईथाकलां के छात्रों ने मनाया शिक्षक दिवस
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏