वाहन चेकिंग के दौरान प्रताड़ित करने पर भड़का लोगों का गुस्सा, जमकर चले ईट-पत्थर

वाहन चेकिंग के दौरान प्रताड़ित करने पर भड़का लोगों का गुस्सा, जमकर चले ईट-पत्थर

# दारोगा समेत कई सिपाही जख्मी, जान बचाकर भागे पुलिसकर्मी

पटना।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7
              बिहार प्रांत के जहानाबाद में पुलिस और पब्लिक के बीच झड़प हो गई। मखदुमपुर थाना से कुछ ही दूरी पर प्लैया मोड़ के समीप शुक्रवार को वाहन चेकिंग कर रही पुलिस पर आक्रोशित लोगों ने पथराव कर दिया और एक दारोगा और सिपाहियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। सभी पुलिसकर्मी किसी तरह जान बचाकर भागे। लोगों का आरोप है कि पुलिस जांच के नाम पर लोगों को प्रताड़ित करती है।

# दारोगा समेत कई पुलिसकर्मी जख्मी

आक्रोशित भीड़ की ओर से किए गए पथराव में दारोगा नितेश कुमार, ड्राइवर सिपाही महेश कुमार और हवलदार मुकेश कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गए। चालक सिपाही महेश कुमार को पटना रेफर किया गया है। वहीं, सूचना पर मौके पर पहुंचे अंचलाधिकारी राजीव कुमार रंजन और थानाध्यक्ष रंजय कुमार के जख्मी होने की भी खबर है।

# ऐसे शुरू हुआ पथराव

जहानाबाद जिले के विशुनगंज इलाके का एक युवक अपने माता-पिता को बाइक से कहीं ले जा रहा था। प्लैया मोड़ के समीप वाहन जांच में जुटी पुलिस ने बाइक सवार को रुकवाया। बताया जाता है कि बाइक सवार ने सभी कागजात दिखाते हुए जरूरी काम से जाने की बात कही। लेकिन, पुलिस वाले जुर्माना देने की बात करने लगे।

इसी बात को लेकर युवक और पुलिस के बीच झड़प होने लगी। पुलिस वाले अपना रौब दिखाते हुए उसे जबरन पुलिस जीप में बैठाने लगे। देखते-देखते युवक और पुलिस में हाथापाई होने लगी। सड़क पर वाहनों की लंबी कतार लग गई और सड़क जाम हो गई। जाम के कारण उस मार्ग से गुजर रहे लोग गाड़ी से उतरकर सड़क पर आ गए। इसके बाद पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया।

# तीन के खिलाफ एफआईआर दर्ज

कुछ ही देर में लोगों की भीड़ हिंसक हो गई। भीड़ का उग्र मिजाज देख कई पुलिसकर्मी दारोगा को छोड़कर भाग गए। इसके बाद उग्र भीड़ ने वहां बचे पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। थानाध्यक्ष रंजय कुमार ने बताया कि इस मामले में आरोपित युवक संजय कुमार, उसके बेटे मनीष कुमार और पत्नी बेबी देवी को हिरासत में लिया गया है। इन तीनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की अलग-अलग धाराओं के तहत केस दर्ज की गई है। तीनों लोग विशुनगंज ओपी क्षेत्र के काजी बीघा गांव के रहने वाले हैं।

# काफी दिनों से लोगों में पनप रहा था आक्रोश

लोगों का आरोप है कि मखदुमपुर पुलिस लॉकडाउन में वाहन जांच अभियान के नाम पर धड़ल्ले से अवैध उगाही कर रही है। वाहन जांच के नाम पर बाइक सवारों को रोका जाता है और फिर उनसे उगाही की जाती है। पैसे नहीं देने पर पुलिस बीच सड़क पर लोगों को कभी मुर्गा तो कभी उठक बैठक कराकर प्रताड़ित कर रही थी। इन बातों को लेकर पुलिस के प्रति लोगों में काफी दिनों से अंदर अंदर आक्रोश पनप रहा था।
Previous articleजौनपुर : भाजपा के युवा मोर्चा ने किया जिला अस्पताल पर रक्तदान
Next articleअलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ने हॉस्टल खाली करने के दिए निर्देश, छात्र नेताओं ने जताई फैसले पर आपत्ति
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏