वेदानन्द ओझा…

वेदानन्द ओझा…

जहाँ लोभ है, लालच है, कुछ पाने की कामना है, वहाँ परम तत्व में अनुरक्ति कहाँ से होगी

Where there is greed, solicitation, a desire for material gain, the propensity to enquire about the supreme cause is not possible.

वेदानन्द ओझा
365 विधानसभा शाहगंज
ग्राम- त्रिकौलिया खुटहन

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : धूमधाम से मनाया गया मुलायम सिंह यादव का 83वां जन्मदिन
Next articleजाम्बिया : बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया सत्य साई बाबा का 98वां जन्मदिन
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏