शर्मनाक : मेरठ मेडिकल में मरीज की मौत होते ही उतार लेते हैं जेवर, मांगों तो मिलते हैं सोने के बदले पीतल

शर्मनाक : मेरठ मेडिकल में मरीज की मौत होते ही उतार लेते हैं जेवर, मांगों तो मिलते हैं सोने के बदले पीतल

लखनऊ/मेरठ।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
                 लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज में भर्ती मरीजों की मौत के बाद उनके सामान चोरी होना आम बात है। अब महिला मरीजों की मौत के बाद उनके तन से कीमती जेवर चोरी होने की घटनाएं भी सामने आ रही है। सोमवार को अपनी मरीज के जेवर चोरी की घटना होने के बाद पहुंचे स्वजनों ने काफी देर हंगामा मचाया और पुलिस भी बुला ली। पुलिस ने दोनों को समझाकर शांत किया और जेवर चोरी होने के संबंध में लिखित में शिकायत लेकर जांच-पड़ताल शुरू की।

मुरादाबाद निवासी संजय ने अपनी मां ज्ञानवती को कोरोना संक्रमण से पीड़ित होने पर 25 अप्रैल को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया था। 27 अप्रैल को महिला की मौत हो गई। जिसके बाद स्वजन शव को मुरादनगर ले गए। जहां उन्हें मृतका के कानों से सोने के कुंडल चोरी होने का पता चला। अंतिम संस्कार के बाद बेटा मेडिकल कालेज पहुंचा और यहां शिकायत की। मेडिकल प्रशासन ने उसे जांच-पड़ताल का आश्वासन देकर भेज दिया। पीड़ित ने कई बार चक्कर लगाए, लेकिन कुंडल नहीं मिल सके। सोमवार को युवक ने मेडिकल कालेज पहुंचकर हंगामा किया और पुलिस बुला ली।

उधर, इस बीच रोहटा रोड निवासी नवीन अरोड़ा भी मेडिकल कालेज परिसर में पहुंचे और उन्होंने भी अपनी मृतक बहन की चोरी की गई सोने की अंगूठी की मांग शुरू कर दी। नवीन ने बताया कि उसने कोरोना संक्रमित होने पर अपनी बहन रूबी अरोड़ा को मेडिकल में भर्ती कराया था। यहां 13 मई को रूबी की मौत हो गई। मेडिकल स्टाफ ने रूबी की मौत के बाद उसकी उंगली से सोने की अंगूठी गायब कर दी। दोनों युवकों की बात सुनने के बाद पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू की और युवकों को शांत कराया। साथ ही दोनों से लिखित में शिकायत लेकर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

# हाथ पर रख दी पीतल की चूड़‍ियां 

मुरादनगर निवासी संजय कुमार ने बताया कि उनकी मां की मौत के बाद मेडिकल स्टाफ ने सोने के कुंडल कानों से उतार लिए। जबकि हाथ पर पीतल की दो चूड़ियां रख दी। युवक ने बताया कि उसकी मां के हाथों में पीतल की चूड़ियां थी, जिससे पहले मेडिकल स्टाफ ने सोने की समझकर उतार लिया। लेकिन पीतल की होने का पता चलते ही वापस हाथ पर रखकर शव को सील कर दिया।

वरिष्ठ चिकित्सक, कोरोना वार्ड प्रभारी वरिष्ठ चिकित्सक डा. धीरज बालियान ने कहा कि कोरोना संक्रमित शवों से जेवर गायब होना गंभीर बात है। शिकायत की जांच कराई जाएगी। हालांकि यहां भर्ती होने वाले हर मरीज के स्वजन से पहले ही कीमती सामान लेने के लिए कहा जाता है। फिर भी जेवर चोरी होने की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
Previous articleछत्तीसगढ़ पुलिस का नया कारनामा : शराब तस्करों को जेल जाने से बचाने के लिए दिखाई कोरोना पॉजिटिव की फर्जी रिपोर्ट
Next articleबाबा रामदेव ने एलोपैथी को फिर लिया निशाने पर..
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏