24.1 C
Delhi
Thursday, April 18, 2024

शोध की गुणवत्ता को बढ़ाता है मेटा एनालिसिस : डॉ.जय कुमार रंजन

शोध की गुणवत्ता को बढ़ाता है मेटा एनालिसिस : डॉ.जय कुमार रंजन

# कैपेसिटी बिल्डिंग प्रोग्राम में कई विशेषज्ञोंने शोध की बारीकियों को समझाया

जौनपुर। 
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव 
तहलका 24×7 
            वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के संकाय भवन में चल रहे कैपेसिटी बिल्डिंग प्रोग्राम के तहत शुक्रवार को मुख्य वक्ता के रूप में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के डॉ. जय कुमार रंजन ने मेटा एनालिसिस की उपयोगिता एवं वैज्ञानिक समीक्षा पर व्याख्यान दिया। उन्होंने वर्तमान समय में शोध के एक उभरते आयाम मेटा एनालिसिस एवं उसकी उपयोगिता पर प्रकाश डाला।
उन्होंने कहा कि मेटा एनालिसिस एक प्रमुख शोध प्रक्रिया है जो विभाजन और संग्रहीत डेटा को विश्लेषित करती है। यह अन्य शोधों के नतीजों को समीक्षित करने और उनकी समारोहित जानकारी को पुनः विश्लेषित करने का एक विशेष तरीका है।
मेटाएनालिसिस का उद्देश्य शोध की गुणवत्ता और प्रभाव को मापना, उन्हें समीक्षित करना और सामान्यतः स्थापित करना होता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से विश्वसनीयता, सामर्थ्य और परिणामों की अवधारणा में सुधार किया जा सकता है। कहा कि अगर शोधकर्ता प्रिज्म मॉडल का ध्यान रखें तो मेटा एनालिसिस बहुत ही उन्नत और परिष्कृत हो सकता है। साथ ही ऐसे वस्तुनिष्ठ शोध में किस प्रकार के अवयवों को सम्मिलित नहीं करना है का भी ध्यान रखना उतना ही आवश्यक होता है। एनालिसिस में किस प्रकार से आर सॉफ्टवेयर जैसे टूल्स मदद कर सकते हैं उसके एक-एक चरण को विस्तार पूर्वक समझाया।
इसके पूर्व मुख्य वक्ता के रूप में प्रथम सत्र को बीएचयू से आये प्रो. ज्ञान प्रकाश सिंह ने डेटा एनालिसिस में एमएस एक्सेल उपयोगिता पर संबोधित किया। कार्यक्रम के द्वितीय सत्र में अहमदाबाद विश्वविद्यालय अहमदाबाद से आई विषय विशेषज्ञ प्रोफेसर उर्मी नंदा विश्वास ने प्रतिभागियों को सामाजिक विज्ञान के क्षेत्र में शोध पत्र व थीसिस लेखन पर विस्तार पूर्वक समझाया। उन्होंने अच्छे शोध लेखन गुणों से अवगत कराते हुए उसके विभिन्न चरणों में होने वाली गलतियों के बारे में छात्रों को अवगत कराया। प्रो. विश्वासने कहा कि वर्तमान परिवेश में एक अच्छे शोधार्थी को मौलिकता, विनम्रता जैसे गुणों को आत्मसात करने की महती आवश्यकता है।
इस अवसर पर डॉ. प्रियंका सिंह, डॉ. साधना मौर्या, डॉ. आकांक्षा श्रीवास्तव, डॉ. अंकिता श्रीवास्तव, डॉ. निशा पांडेय, श्रुति श्रीवास्तव, कश्मा सिंह, रेनु मल चौहान, डॉ. दया सिंधु, डॉ. विवेक मिश्रा, डॉ. कपिलदेव, अनुपम, दीपक कुमार यादव, एजाज अहमद, डॉ. वीरेंद्र कुमार साहू, डॉ. दीपक कुमार दास, बब्बन कुमार, एसी सिंह, चंद्रभुज कश्यप, यदुभान कुमार आदि  उपस्थित रहे।

तहलका संवाद के लिए नीचे क्लिक करे ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓

लाईव विजिटर्स

37020800
Total Visitors
337
Live visitors
Loading poll ...

Must Read

Tahalka24x7
Tahalka24x7
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... ?

बीएसए के अनुमोदन पर प्रधानाध्यापक का निलंबन तय 

बीएसए के अनुमोदन पर प्रधानाध्यापक का निलंबन तय  सुइथाकला, जौनपुर।  तहलका 24x7               शिक्षा के क्षेत्र में...

More Articles Like This