सनातन धर्म, संस्कृति और संस्कारों को सीखने का मार्ग है भागवत पुराण- डॉ नरेंद्र त्रिपाठी

सनातन धर्म, संस्कृति और संस्कारों को सीखने का मार्ग है भागवत पुराण- डॉ नरेंद्र त्रिपाठी

खुटहन।
मुलायम सोनी
तहलका 24×7
                 परमात्मा का मानव अवतार स्वरूप सिर्फ हिंदू धर्म में ही है। यही कारण है कि अन्य धर्मों के अनुयाई आध्यात्म की तलाश में भारत आते हैं। यहाँ से उन्हें सनातन धर्म, संस्कृति और संस्कारो को सीखने का अवसर मिलता है। इन्हीं महान गुणो के चलते विश्व पटल पर भारत को महान देश की उपाधि से नवाजा जाता है उक्त बातें महमदपुर गुलरा गांव में पत्रकार प्रमोद पांडेय के आवास पर आयोजित श्रीमद् भागवत कथा सप्ताह ज्ञान यज्ञ में व्यासपीठ से प्रवचन करते हुए प्रयागराज से पधारे प्रख्यात कथा वाचक डॉ नरेंद्र त्रिपाठी ने कही।
उन्होंने कहा कि भागवत कथा भक्तों का पुराण है, जिसे सुनकर भक्त ईहलोक के साथ साथ परलोक में सुख शांति की प्राप्ति करते हैं। 17 जून तक चलने वाली कथा का समय शाम 3 बजे से 7 बजे रखा गया है। डॉ नरेंद्र त्रिपाठी के अलावा पंडित परमानंद तिवारी तथा अयोध्या के परमहंस महाराज भी उपस्थित लोगों को कथा सुनाएंगे। पंडित अवधेश दुबे तथा पंडित दिनेश पाठक भी कथा वाचन में महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान किए। इस मौके पर श्रीपाल पांडेय, भागवत तिवारी, चेत नारायण सिंह, दिनेश पांडेय, डॉ सुभाष चंद्र पांडेय, पत्रकार शिवपूजन पांडेय, मुरारी मिश्रा, श्रवण तिवारी, चन्द्र शेखर पांडेय, संतोष पांडेय, हरिश्चंद्र पांडेय, राजन पांडेय, मिंटू पांडेय, लालमणि नाविक आदि मौजूद रहे। मुख्य यजमान दुर्गेश दत्त पाण्डेय व संजय पांडेय ने आगंतुको का स्वागत व आभार प्रकट किया।
Previous articleजौनपुर : पत्नी से विवाद के बाद पति ने लगा ली फांसी, हुई मौत
Next articleजौनपुर : पुलिस ने दहेज हत्या से संबंधित दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏