सावन अपडेट ! काशी विश्वनाथ दरबार में इस बार दिखेगी अलग छटा

सावन अपडेट ! काशी विश्वनाथ दरबार में इस बार दिखेगी अलग छटा

# सड़क पर नहीं लगेगी शिवभक्तों की कतार, रेड कार्पेट का भी इंतजाम

वाराणसी।
मनीष वर्मा
तहलका 24×7
               शिव की नगरी काशी में सावन की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। द्वादश ज्योतिर्लिंग में प्रमुख श्री काशी विश्वनाथ के दरबार में श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों इंतजाम किए गए हैं। श्रद्धालु सावन में जहां घर बैठे बाबा का ऑनलाइन पूजन व अभिषेक कर सकेंगे, वहीं कोविड प्रोटोकॉल के साथ ही मंदिर में दर्शन पूजन की तैयारियां की जा रही हैं। इस बार श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए अलग-अलग प्रवेश और निकास द्वार बनाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में निरीक्षण के दौरान सावन में श्रद्धालुओं के लिए खास इंतजाम करने के निर्देश दिए थे। मंदिर क्षेत्र में चल रहे कार्यों को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है। उम्मीद है कि सावन से पहले मंदिर परिक्षेत्र का कार्य पूर्ण होने पर बाहर लगने वाली कतार मंदिर क्षेत्र के अंदर ही लगेगी। श्रद्धालुओं के लिए जहां रेड कार्पेट का इंतजाम किया जाएगा।

25 जुलाई से शुरू हो रहे सावन की तैयारियां काशी के शिवालयों में चल रही हैं। कोरोना संक्रमण के कारण पिछले साल की तरह ही कोरोना प्रोटोकॉल के अनुसार दर्शन पूजन का इंतजाम किया जा रहा है। काशी विश्वनाथ, कर्दमेश्वर महादेव, जागेश्वर, मृत्युंजय, तिलभांडेश्वर, गौरी केदारेश्वर, बीएचयू विश्वनाथ, भीमाशंकर, सारंगनाथ, गौतमेश्वर, रामेश्वर समेत शहर के सभी शिवालयों में तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। दुर्गा कुंड क्षेत्र में सावन के दौरान लगने वाले मेले पर फिलहाल कोई निर्णय नहीं हो सका है।

# घर बैठे मिलेगा बाबा का प्रसाद

सावन महीने में श्रद्धालुओं को घर बैठे बाबा विश्वनाथ का प्रसाद मिलेगा। डाक विभाग के काउंटर से 251 रुपये जमा करके श्रद्धालु बाबा का प्रसाद प्राप्त कर सकेंगे। इधर, श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रथम सोमवार को जलाभिषेक के लिए यादव बंधुओं ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। परंपरा के अनुसार यादव बंधु बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक करते हैं। कोविड संक्रमण को देखते हुए इस बार सिर्फ पांच-पांच लोगों को ही जलाभिषेक की अनुमति दी गई है। 
Previous articleअल-कायदा के आतंकियों ने चंदौली समेत चार जिलों से खरीद था असलहा, सुरक्षा तंत्र पर उठे सवाल
Next articleन्याय नहीं मिला तो थाने के भीतर कर लूंगी आत्महत्या
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏