सिपाही ने कनपटी पर रखा तमंचा, बोला- मेरी मौत के जिम्मेदार होंगे इंस्पेक्टर

सिपाही ने कनपटी पर रखा तमंचा, बोला- मेरी मौत के जिम्मेदार होंगे इंस्पेक्टर

बरेली।
स्पेशल डेस्क
तहलका 24×7 
                     सुभाषनगर थाने में मंगलवार रात शराब पीकर हंगामा करने पर सस्पेंड हुए सिपाही ने बुधवार सुबह अपनी कनपटी पर तमंचा लगा लिया। बोला- मेरी मौत के जिम्मेदार इंस्पेक्टर होंगे। यह देखकर थाने का स्टाफ हक्का-बक्का रह गया। स्टाफ ने किसी तरह उससे तमंचा छीना। मामला अधिकारियों तक पहुंचा तो सिपाही के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया। 
मुरादाबाद के छजलैट क्षेत्र का रहने वाला ताराचंद 2011 बैच का सिपाही है। वर्तमान में वह सुभाषनगर की मढ़ीनाथ चौकी पर तैनात है। बताया जा रहा है कि ताराचंद ने एक महिला दरोगा से फोन पर चैटिंग की। इसकी शिकायत इंस्पेक्टर से की गई तो मंगलवार शाम करीब साढ़े छह बजे सिपाही नशे में धुत होकर थाने पहुंच गया और हंगामा करने लगा। इंस्पेक्टर नरेश कश्यप ने समझाने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं माना। पुलिसकर्मियों से भी उलझ गया। इस पर इंस्पेक्टर ने सिपाही को पकड़वाकर उसका मेडिकल करवाया। इसमें एल्कोहल की पुष्टि हो गई। एसएसपी ने सिपाही को सस्पेंड कर दिया। सिपाही को बुधवार सुबह पुलिस लाइन में आमद कराने को कहा गया।
सिपाही को जब निलंबित होने की जानकारी हुई तो वह बुधवार सुबह करीब नौ बजे तमंचा लेकर थाने पहुंच गया। वहां सिपाही ने अपनी कनपटी पर तमंचा रखकर अपनी पत्नी को फोन मिलाया और कहने लगा- ‘मैं आत्महत्या कर रहा हूं। मेरी मौत के जिम्मेदार इंस्पेक्टर सुभाषनगर और हेडमोहर्रिर होंगे।’ यह दृश्य देखकर हर कोई हक्का बक्का रह गया। 
थाने में मौजूद पुलिस कर्मियों ने उसे बातों में उलझाकर किसी तरह तमंचा छीना। मामला अधिकारियों तक पहुंचने पर सिपाही के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। अदालत से सिपाही को जेल भेज दिया गया। इंस्पेक्टर सुभाषनगर ने बताया कि सिपाही के पास 12 बोर का लोड तमंचा था। एसएसपी को घटना की जांच रिपोर्ट सौंप दी गई है।

Earn Money Online

Previous articleआजमगढ़ : पारिवारिक कलह के चलते दो महिलाओं ने लगाई फांसी
Next articleचिंताजनक ! झांसी में बढ़ रही है “बालिका वधू”
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏