सुप्रीम कोर्ट के बाहर खुद को आग लगाने वाली यूपी की रेप पीड़िता की भी मौत

सुप्रीम कोर्ट के बाहर खुद को आग लगाने वाली यूपी की रेप पीड़िता की भी मौत

# साथी की पहले हो चुकी है मौत, दोनों ने साथ में किया था आत्मदाह

# आरोपों के घेरे में आए पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर, जांच समिति के समक्ष हुए पेश

लखनऊ/नई दिल्ली।
विजय आनंद वर्मा
तहलका 24×7
               यूपी में घोसी के मऊ से बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली/सुप्रीम कोर्ट के सामने खुद को आग लगाने वाली पीड़िता ने भी इलाज के दौरान आज अस्पताल में दम तोड़ दिया। लड़की ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर 16 अगस्त को खुद को आग के हवाले कर लिया था। आत्मदाह से पूर्व लड़की ने सोशल मीडिया पर लाइव किया था, उसने कई लोगों के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए थे। इस मामले में एक युवक सत्यम गवाह था, जिसने भी रेप पीड़िता के साथ आग लगा ली थी, लड़के की 21 अगस्त को मौत हो चुकी है।
दोनों को राममनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था।‌ 16 अगस्त को आत्मदाह की घटना को अंजाम देने के लिए दोनों ने गेट “डी” से सुप्रीम कोर्ट में घुसने की कोशिश की थी, लेकिन पर्याप्त कागज नहीं होने के कारण सुरक्षाकर्मियों ने उन्हे गेट से ही लौटा दिया था, जिसके बाद दोनों ने गेट के बाहर खुद को आग लगा ली थी।

# भूखे-प्यासे रहकर लड़े लेकिन नहीं मिला न्याय…

दोनों ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर से घटना का फेसबुक पर लाइव भी किया था। फेेसबुक लाइव के जरिये पीड़िता और उसके दोस्त ने वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक, सीओ अमरेश सिंह, दरोगा संजय राय और उसके बेटे विवेक राय एवं पूर्व आईजी अमिताभ ठाकुर पर भी आरोप लगाया था। 9 दिन के अंदर दोनों ने दम तोड़ दिया। वीडियो में पीड़िता के दोस्त ने कहा था, ‘उन लोगों ने पैसों का प्रलोभन छोड़कर भूखे-प्यासे रहकर अतुल राय के खिलाफ कानूनी लड़ाई जारी रखी थी, ताकि कानून और पुलिस व्यवस्था में लोगों का भरोसा बढ़े। अब हम लोग एक नेक्सस में फंस गए हैं। हम लोगों के पास भी अगर राजनीतिक आश्रय होता तो शायद हमें इस कदर परेशान नहीं होना पड़ता।’
                         2019 से जेल में बंद हैं रेप के आरोपी सांसद

# मौत से पहले बनाया था दोनों ने लाइव वीडियो…

सोशल मीडिया पर लाइव वीडियो बनाते समय दोनों ने कहा था कि अतुल राय के इशारे पर वाराणसी के पूर्व एसएसपी अमित पाठक, पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर, निलंबित डिप्टी एसपी अमरेश सिंह बघेल, दरोगा संजय राय और उसका बेटा समेत कुछ जज उनके पीछे पड़े हुए हैं। सभी की मिलीभगत से दोनों पर फर्जी मुकदमे दर्ज हो रहे हैं। पीड़ित के साथ न्याय की बजाय उसे चरित्रहीन साबित करने का प्रयास किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में पुलिस और अदालत के साथ ही प्रधानमंत्री कार्यालय से भी उन्हें मदद नहीं मिल पाई।

# सरकार ने गठित की दो सदस्यीय जांच समित…

रेप पीड़ित और उसके गवाह के आत्मदाह प्रकरण की जांच के लिए यूपी सरकार ने 2 सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है। जांच समिति में पुलिस महानिदेशक डॉ. आरके विश्वकर्मा और नीरा रावत शामिल हैं। जांच के क्रम में समिति ने सबसे पहले पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर को बयान दर्ज कराने के लिए तलब किया, जिन्होने आज लखनऊ में जांच समिति के सामने पेश होकर अपना बयान दर्ज कराया। इसके बाद बारी-बारी से सभी पुलिस अफसर जांच समिति के सामने पेश होकर अपना बयान दर्ज कराएंगे। बयान दर्ज करने के बाद समिति अपनी रिपोर्ट प्रदेश सरकार को सौंपेगी।

              जांच समिति के समक्ष बयान देने पहुंचे अमिताभ ठाकुर

# यूपी के बलिया की रहने वाली थी रेप पीड़िता…

रेप पीड़ित बलिया जिले की रहने वाली और वाराणसी में यूपी कॉलेज की पूर्व छात्रा थी। उसने 1 मई 2019 को लंका थाने में बसपा सांसद अतुल राय के खिलाफ रेप समेत अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज कराया था। अतुल राय बीते सवा 2 साल से प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं। वाराणसी के कॉलेज में हुई थी पीड़ित और गवाह की जान-पहचान गाजीपुर जिले के भांवरकोल क्षेत्र के सियाड़ी गांव निवासी इंद्रबली राय के बेटे सत्यम प्रकाश राय साल 2013 में वाराणसी के यूपी कॉलेज के छात्रसंघ के पदाधिकारी रहे थे। यूपी कॉलेज में छात्र राजनीति के दौरान ही सत्यम प्रकाश की जान-पहचान रेप पीड़ित से हुई थी। सत्यम ने रेप पीड़ित को 2015 में यूपी कॉलेज के महामंत्री पद का चुनाव भी लड़ाया था, लेकिन वह हार गई थी।‌22 जून 2019 को बसपा अतुल राय ने वाराणसी की अदालत में सरेंडर किया, जेल भेजे गए।
Previous articleकिसान उत्पादक संगठन के तत्वावधान में किसान गोष्ठी का हुआ आयोजन
Next articleजौनपुर : उद्योग व्यापार मण्डल खेतासराय ने दिया कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏