सुल्तानपुर : सहकारी कर्मियों की हड़ताल से खाद की किल्लत, धान खरीद ठप्प

सुल्तानपुर : सहकारी कर्मियों की हड़ताल से खाद की किल्लत, धान खरीद ठप्प

# सहकारी समितियों पर लटक रहे हैं ताले, अन्नदाता हो रहे हैं हलकान

सुल्तानपुर।
ज़ेया अनवर
तहलका 24×7
                  वेतन भुगतान को लेकर सहकारी समितियों के कर्मचारियों की हड़ताल से किसानी कार्य प्रभावित हो रहे हैं। किसानों को रबी की बोआई के लिए न तो डीएपी मिल पा रही है और न ही उपज को बेचकर नकदी पाने की मंशा पूरी हो रही है।पहली नवंबर से धान की खरीद कागजी तौर पर शुरू हो चुकी है, लेकिन अब तक महज 12 क्विंटल धान खरीदा जा सका है। वह भी नवीन मंडी परिसर में स्थित क्रय केंद्र पर केवल एक किसान से खरीद किया गया है।

सहकारी कार्मिकों ने मंगलवार से ब्लाकवार धरना-प्रदर्शन शुरू किया है। इससे पीसीएफ के क्रय केंद्रों पर ताला लटका है। स्वीकृत 45 क्रय केंद्रों में से 28 केवल सहकारी समितियों के हैं। हड़ताल से किसान परेशान तो हो ही रहे हैं, वहीं इससे उपजी समस्या को अपने पक्ष में भुनाने के लिए राजनैतिक दल भी आगे आ गए हैं। कांग्रेस, सपा सभी धान खरीद न होने और केंद्रों पर डीएपी की अनुपलब्धता को लेकर प्रशासन को ज्ञापन भी दे चुके हैं। सपा ने तो इस मुद्दे पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

डीआरएमओ विनीता मिश्रा भी इस बात को स्वीकार करती हैं कि समितियों में ताला बंदी से धान खरीद पर प्रभाव पड़ा है। अभी तक खरीद न शुरू हो पाने को लेकर वह चितित भी हैं। कहती हैं कि सहकारी समिति के लोगों से भी शासन स्तर पर वार्ता चल रही है। शीघ्र ही इसका हल निकलने की संभावना है। वहीं मार्केटिग के चौदह, नवीन मंडी परिसर के एक व भारतीय खाद्य निगम के दो क्रय केंद्रों पर भी खरीद शुरू कराने के लिए गंभीर प्रयास की बात उनके द्वारा की जा रही है।

# समितियों पर ताले

सहकारी समितियों पर ताले लटक रहे हैं। तो किसान खाद की समस्या से जूझ रहे हैं। करौंदीकला के कटघर पूरे चौहान एवं नरायनपुर नागनाथपुर समिति में ताले लटके हुए हैं। यही हाल चांदा के सहकारी समिति शाहपुर, चितावनपुर, मरछे, कसईपुर, कोथरा, अमरुपुर आदि समितियों का भी है। यहां भी ताले लटके रहे।

# खाद के लिए मची मारामारी

कूरेभार के पीसीएम गोदाम कटका खानपुर पर जब मंगलवार को डीएपी खाद की खेप पहुंची। इसके बाद खाद लेने के लिए किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी। लोगों में पहले खाद लेने के लिए आपाधापी मच गई। इससे केंद्र पर तैनात कर्मचारियों को खाद बांटने में पसीने छूट गए।

Earn Money Online

Previous articleआजमगढ़ : अलग-अलग स्थानों पर हुई मारपीट में सात घायल
Next articleसुल्तानपुर : तूल पकड़ता जा रहा है कोआपरेटिव की बिल्डिंग गायब करने का मामला
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏