अयोध्या में तनाव की साजिश रचने वाला हिस्ट्रीशीटर महेश व उसके सात साथी गिरफ्तार

अयोध्या में तनाव की साजिश रचने वाला हिस्ट्रीशीटर महेश व उसके सात साथी गिरफ्तार

# जालीदार टोपी पहन कर धार्मिक स्थल पर मांस का टुकड़ा फेंककर बिगाड़ना चाहते थे माहौल

अयोध्या।
आर एस वर्मा
तहलका 24×7
                       श्रीराम की नगरी अयोध्या में धार्मिक माहौल बिगाड़ने की बड़ी साजिश रची गई थी, जिसका पर्दाफाश किया गया है। यहां कुछ शरारती तत्वों ने जालीदार टोपी लगाकर आपत्तिजनक पर्चे और धार्मिक स्थलों पर मांस के टुकड़े फेंके। अब इनका भंडाफोड़ हुआ है और पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इस साजिश को रचने वाला आरोपी हिस्ट्रीशीटर है जिस पर चार मामले पहले से दर्ज हैं।
छानबीन के बाद पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है, वहीं 4 अन्य लोगों की अभी तलाश है। पुलिस ने पहले दो आरोपियों को पकड़ा था उन्होंने बाकियों की पहचान कराई ये सभी ‘हिंदू योद्धा संगठन’ से जुड़े हुए बताये गए हैं।

# कौन हैं आरोपी?

गिरफ्तार लोगों में महेश मिश्रा (मास्टरमाइंड), प्रत्यूष कुमार, नितिन कुमार, दीपक गौड़, ब्रजेश पांडे, शत्रुघ्न व विमल पांडेय शामिल हैं। इन पर मस्जिदों के बाहर आपत्तिजनक सामान फेंक कर तनाव की साजिश रचने का आरोप है। ये लोग सीसीटीवी में भी कैद हुए थे।
जानकारी के मुताबिक, आरोपी खुद चाहता था कि वह ऐसा करता हुआ CCTV में कैद हो. इसलिए उसने इलाके की ऐसी दो मस्जिदें चुनीं जहां पर सीसीटीवी लगा हुआ था। पुलिस ने बताया कि महेश मिश्रा इसका मास्टरमाइंड था। उसने ब्रजेश पांडे नाम के शख्स के घर पर इसकी प्लानिंग रची थी। महेश ने आपत्तिजनक पर्चे लालबाग से छपवाये थे वहीं आरोपी प्रत्यूष श्रीवास्तव ने कुरान और टोपी खरीदी थी।
इसके अलावा अन्य आरोपी ने लालबाग से मांस खरीदा था। इस सामान को 26 अप्रैल को जुटाया गया और फिर कश्मीरी मोहल्ला मस्जिद में मांस और कुरान को फेंका, फिर दूसरी मस्जिद में आपत्तिजनक सामान और मांस फेंका गया।
पुलिस को इस मामले में कुल चार शिकायतें मिली थीं। इसमें बताया गया था कि आत्शा जामा मस्जिद, घोसियाना मस्जिद, कश्मीरी मोहल्ले में एक मस्जिद और एक मजार जिसे गुलाब शाह बाबा के नाम से जाना जाता है उसके बाहर आपत्तिजनक पर्चे और मांस फेंका गया था।

# जहांगीरपुरी काण्ड का लेना चाहते थे बदला

पुलिस ने मुताबिक, आरोपी जहांगीरपुरी काण्ड का बदला लेना चाहते थे. बताया गया कि आरोपियों ने कहा कि हनुमान जयंती के मौके पर जहांगीरपुरी में हिंसा हुई, इसलिए वे लोग ईद पर माहौल खराब करना चाहते थे, ये लोग चाहते थे ईद की खुशी में खलल डाली जाए।
फिलहाल इन लोगों पर आईपीसी की धारा 295 (किसी भी वर्ग के धर्म का अपमान करने के इरादे से पूजा स्थल को चोट पहुंचाना या अपवित्र करना) और 295A (जान-बूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य, जिसका उद्देश्य किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को उसके धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करना है) के तहत मामला दर्ज किया गया है।अब इन लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के तहत केस दर्ज होगा।

# मास्टरमाइंड के भाई ने क्या कहा

घटना के बाद मुख्य आरोपी महेश मिश्रा के भाई से ने बताया कि महेश हिंदू योद्धा संगठन बनाकर अयोध्या के लड़कों को जोड़ रहा था। वह हर मंगलवार किसी ना किसी मोहल्ले में जाकर करता था हनुमान चालीसा का पाठ करता था। महेश मिश्रा के भाई विशाल मिश्रा ने कहा आरएसएस व बजरंग दल के लिए वह कई सालों से काम कर रहा था। भाई ने कहा कि दिल्ली (जहांगीरपुरी) और खरगोन में हुई घटना के बाद से वह हिंदुओं पर कथित अत्याचार को लेकर बातें करते थे।

लाईव विजिटर्स

27286537
Live Visitors
4115
Today Hits

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : अघोषित बिजली कटौती से आक्रोशित अधिवक्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
Next articleसीएम योगी ने जौनपुर जिला अस्पताल के दो डॉक्टरों को किया निलंबित, मचा हड़कंप
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏