जौनपुर : बाबा साहब के बताये रास्ते पर चलने की जरुरत- अरविन्द पटेल

जौनपुर : बाबा साहब के बताये रास्ते पर चलने की जरुरत- अरविन्द पटेल

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                 नगर में दीवानी न्यायालय के निकट अम्बेडकर तिराहे पर स्थित संविधान महानायक भारत रत्न बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर सरदार सेना के जिलाध्यक्ष अरविन्द कुमार पटेल ने प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते हुए जयंती मनायी तथा उनके दिखाये हुये रास्ते पर चलने का संकल्प लिया गया।इस दौरान जिलाध्यक्ष अरविन्द कुमार पटेल ने लोगों से अपील किया कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की विचार धारा पर काम कर देश को विकास के रास्ते पर ले जाने में अपना-अपना योगदान करें तथा अपने उद्बोधन में कहा कि अम्बेडकर ने दलित, पिछड़े, शोषित-वंचित समाज के समर्थन में अभियान का नेतृत्व किया।

वह स्वतंत्रता के बाद भारत के पहले कानून और न्याय मंत्री थे। इन सबसे ऊपर अंबेडकर ने भारत के संविधान को बनाने में एक केंद्रीय भूमिका भी निभाई थी उस समय भारतीय समाज में व्याप्त विभिन्न अन्याय से लड़ने के लिए भावुक थें।अन्याय के खिलाफ तमाम लडा़ईयां लड़ने का कार्य किये है वह एक अर्थशास्त्री, राजनेता और समाज सुधारक थें, जिन्होंने दलित समुदाय के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी, जिन्हें अछूत माना जाता था (उन्हें अभी भी देश के कुछ हिस्सों में अछूत माना जाता है।भारत के संविधान के एक प्रमुख वास्तुकार, अम्बेडकर ने महिलाओं के अधिकारों और मजदूरों के अधिकारों की भी वकालत की। भारतीय गणराज्य की संपूर्ण अवधारणा के निर्माण में अम्बेडकर जी का योगदान बहुत बड़ा है।

उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने भारत के राज्य को पुरातन मान्यताओं और विचारों से मुक्त करने के लिए अर्थशास्त्र में अपनी मजबूत पकड़ का इस्तेमाल किया। उन्होंने अछूतों के लिए अलग निर्वाचक मंडल बनाने की अवधारणा का विरोध किया और सभी के लिए समान अधिकारों की वकालत की थी आंबेडकर को पाली, संस्कृत, अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, मराठी, पर्शियन और गुजराती जैसी नौ भाषाओं का ज्ञानी थे इसे उनकी दूरदर्शिता ही कही जाएगी कि उन्होंने देश के लिए एक ऐसा संविधान तैयार किया जो सभी जाति और धर्म के लोगों की रक्षा करता है व उन्हें समानता का अधिकार प्रदान करता है। इस अवसर पर शाह आलम अन्सारी, बृजेंद्र पटेल, राजकुमार सिंह, देवेन्द्र पटेल, अमर बहादूर चौहान, मुन्ना पटेल, किशन पटेल, रितिक, शिवम् गौतम, करिया लाल, अरून गौड़ सहित कई लोग मौजूद रहे।

लाईव विजिटर्स

27275432
Live Visitors
1156
Today Hits

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : जरा सूझ-बूझ से बचा जा सकता साइबर क्राइम से- ओपी
Next articleजौनपुर : सामाजिक समरसता दिवस के रूप में मनाई गई बाबा साहेब की जयन्ती
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏