जौनपुर : रक्तदान के प्रति युवाओं में बढ़ रही है जागरूकता- डॉ तारिक

जौनपुर : रक्तदान के प्रति युवाओं में बढ़ रही है जागरूकता- डॉ तारिक

# स्वैच्छिक रक्तदान के लिए माँ संग पहुंची बेटी रही खासा चर्चा में..

शाहगंज।
एख़लाक खान
तहलका 24×7
                   रक्तदान से जुड़ी भ्रांतियां के चलते अक्सर देखा जाता है कि रक्तदान करने वाले के परिजन रक्तदाता को रक्तदान के लिए मना कर देते हैं लेकिन सोमवार को अपनी मां संग पहुंची बेटी ने स्वैच्छिक रक्तदान कर युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन गयी, जिसकी खासा चर्चा रही।
नगर के पुरानी बाजार स्थित आरके हॉस्पिटल एवं ब्लड कंपोनेंट सेंटर में सोमवार को रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। एमएस ब्लड डोनेट ग्रुप के तत्वाधान में आयोजित शिविर में 20 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान करके मानवता की सेवा में अपना योगदान किया। सभी रक्तदाताओं को प्रशस्ति पत्र और उपहार देकर सम्मानित किया गया। अल्पसंख्यक परिवार से माँ के साथ पहुंची दो बेटियों में चिकित्सक ने एक बिटिया से रक्तदान कराया, जबकि दूसरी बेटी शारीरिक दक्षता के कारण खून देने से वंचित रह गई।
रक्तदान शिविर में ब्लड बैंक के निदेशक डॉ. जेपी दुबे ने कहा कि रक्तदान करने से शरीर को किसी तरह का नुकसान नहीं होता बल्कि बहुत सारे फायदे होते हैं। उन्होंने बताया कि नियमित रक्तदान से शरीर में आयरन की मात्रा और रक्तचाप संतुलित रहता है। कैंसर और हार्ट अटैक का खतरा बहुत कम हो जाता है। नई रक्त कोशिकाएं बनती हैं। लीवर स्वस्थ रहता है और मोटापा पर असर पड़ता है। सबसे महत्वपूर्ण यह कि शरीर की रक्त प्रतिरोधक क्षमता लगातार बढ़ती है।
अतिथि के रूप मौजूद डॉ. तारिक शेख ने कहा कि देश में आए दिन सैकड़ों जानें समय पर रक्त नहीं मिलने के कारण चली जाती हैं। ऐसे में समाज को अपने कर्तव्यों के लिए जागरूक रहने की जरुरत है। एमएस ब्लड डोनेट ग्रुप से जुड़े समाजसेवी काशिफ शहजाद खान ने कहा कि रक्तदान मानवता की सेवा में किया जाने वाला सबसे बड़ा योगदान है।
अपनी माँ के साथ रक्तदान करने पहुंची फैजाबाद रोड स्थित पब्लिक कालेज के समीप की निवासी माविया जैद और सबा जैद की खासी चर्चा रही। ब्लड बैंक संचालक डाॅ. दुबे ने रक्तदान के लिए जब उनसे बात की तो बेटियों की माँ ने कहा देश के लोगों की जान बचाने में अपना योगदान देने के लिए दोनों बेटियाँ को हमेशा तैयार हैं। हालांकि जांच के बाद माविया ही रक्तदान कर सकी, जबकि चिकित्सक ने बहन को खून की कमी बताते हुए रक्तदान नहीं कराया।
रक्तदान करने वालों में अरविंद यादव, मोहम्मद रेयान, रूपेश यादव, नितिन कुमार, अजीत कुमार, आकाश, प्रदीप बिंद, माविया ज़ैद, बलवंत, अश्वनी कुमार, मोहम्मद खान, मोहम्मद हमजा और भूपेंद्र आदि ने रक्तदान किया। इस मौके पर सभी रक्तदाताओं को उपहार स्वरूप दीवाल घड़ी और प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया।
Previous articleजौनपुर : पर्यावरण संतुलन के लिए पौधरोपण ही एक मात्र विकल्प- राघवेंद्र सिंह
Next articleजौनपुर : धार्मिक और सांस्कृतिक आयोजनों से हमारी संस्कृति होती है बलवती- डॉ अंजना
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏