आईये जानते हैं “बोर्ड परीक्षा में कैसे रहे तनाव मुक्त?”

आईये जानते हैं “बोर्ड परीक्षा में कैसे रहे तनाव मुक्त?”

# विद्यार्थियों के लिए रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी

स्पेशल डेस्क।
राजकुमार अश्क
तहलका 24×7
              परीक्षा के समय विद्यार्थियों में तनाव होना एक आम समस्या होती है जिसका असर उनके पढ़ाई पर पड़ता है और माता पिता भी इस चिंता से मुक्त नहीं रह पाते हैं, तो इस लेख के माध्यम से मैं अपना निजी विचार रखने का प्रयास कर रहा हूँ जिससे आने वाली बोर्ड परीक्षा में विद्यार्थी और उनके माता पिता तनाव मुक्त होकर अपने बच्चों को परीक्षा देने में मदद कर सकें।
बच्चों हमारा सम्पूर्ण जीवन ही परीक्षा की धुरी के इर्द-गिर्द हमेशा घूमता रहता है फिर वह चाहें कैरियर बनाने के लिए दी जानें वाली परीक्षाएं हो या संघर्षमय जीवन जीने की परीक्षा हो। ऐसे में तनाव होना लाजमी है मगर उस तनाव को अपने ऊपर हावी हो जाने देना ही हमारी पहली हार की सीढ़ी बनती है। आप अपने आपको उस आने वाली परीक्षा के लिए तब तैयार करते हैं जब परीक्षा की तारीख़ घोषित हो जाती है या जब परिस्थितियां आपके विपरीत होने लगती है, यही आपकी सबसे बड़ी भूल होती है, आप अपने आपको उस दिन से ही बोर्ड परीक्षा के लिए तैयार करना शुरू कर दीजिए जिस दिन से आपने दाखिला लिया था, फिर देखिए यही बोर्ड परीक्षा आपको कितनी रोचक लगती है। मैं उन सभी माता पिता से भी कहना चाहूंगा कि आप अपने बच्चों के ऊपर पढ़ाई को लेकर विशेष प्रेशर न बनाएं, बोर्ड परीक्षा एक ऐसी परीक्षा होती है जिसकों लेकर हर विद्यार्थी तनाव में रहता है उस पर से माता पिता का प्रेशर देना उस तनाव को और भी बढ़ा देता है, उन माता पिता के लिए मेरा सुझाव है कि आप अपने बच्चें के खान-पान पर विशेष ध्यान दीजिये और उन्हें समझाएं कि यह सिर्फ एक नार्मल परीक्षा है इसको लेकर इतना तनाव लेने की जरूरत नहीं है, बस तुम हर सब्जेक्ट को समय समय पर रिवीजन करते रहो और किसी चीज़ को रटने की कोशिश मत करो उस चीज़ को समझों। परीक्षा में तनाव को दूर करने के लिए कुछ तथ्य साझा कर रहा हूं जिसे यदि आपने अपनाया तो यकीन मानिए आप अवश्य सफल होगें ऐसा मुझे पूर्ण विश्वास है।

1- उस सब्जेक्ट पर आप विशेष फोकस करिए जो सब्जेक्ट आपको परेशान करते हैं, जैसे आप हिन्दी, संस्कृत, इतिहास पर आप अगर एक एक घंटे का समय देते हैं मगर भूगोल आपको उबाऊ सब्जेक्ट लगता है वह आपको जल्दी याद नहीं होता है तो उस पर अन्य सब्जेक्ट की अपेक्षा ज्यादा समय दीजिये।

2- कुछ बच्चों की मैथ बहुत अच्छी होती है मगर हिन्दी और अंग्रेज़ी कमज़ोर होती है तो आप इन दोनों सब्जेक्ट के बीच में मैथ को करिये। जैसे पहले आप हिन्दी पढ़िए फिर मैथ उसके बाद अंग्रेजी.. इन सबके बीच में आधे घंटे का अंतर अवश्य रखिये।

3- आप लगातार किसी एक ही सब्जेक्ट को मत पढ़िए बीच बीच में थोड़ा अन्तराल जरूर रखिये जैसे आपने बायोलॉजी पढ़ा और फिर तुरंत आप केमेस्ट्री पढ़ना शुरू कर देते हैं यह गलत तरीका है बीच में आधे घंटे का अन्तराल करके फिर केमेस्ट्री पढ़िए इसी तरह अन्य सब्जेक्ट के साथ भी करिये।

4- बहुत से बच्चों को देखा गया है कि वो परीक्षा हाल में जातें समय भी कुछ पढ़ते हुए जातें हैं यह गलत है, परीक्षा शुरू होने से कम से कम 45 मिनट पहले आपको कापी किताब सब बंद करके रख देना चाहिए और थोड़ा बहुत इधर-उधर टहल लेना चाहिए जिससे आप बिलकुल तनाव मुक्त हो सकें।

5- परीक्षा के समय एक विशेष बात लगभग हर बच्चे में देखने को मिलती कि वह देर रात तक जाग कर पढ़ाई करता है ऐसा करना किसी भी तरह से परीक्षा के समय हितकर नहीं है। परीक्षा के समय आपको भरपूर नींद की आवश्यकता होती है जिससे आप तनाव मुक्त रह सकें।जल्दी सोना और जल्दी उठना यह तो हम सभी जानते ही हैं कि हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना जरुरी है। यही नियम हमें परीक्षा के समय भी अपनाने की जरूरत होती है। सुबह भोर में उठकर थोड़ा ताजी हवा में घूमकर अपने आपको फ्रेश करें फिर अपना नित्य कर्म से निवृत्त होकर पढ़ने बैठे और परीक्षा सेंटर जाने से लगभग 45 मिनट पहले कापी किताब बंद करके अपने आपको रिलैक्स करिए।

6- बहुत से ऐसे बच्चे होतें है जो परीक्षा हाल के बाहर बैठ कर तब तक पढ़ते हैं जब तक कि आखिरी घंटी नहीं बज जाती यह गलत तरीका है परीक्षा हाल में परीक्षा शुरू होने से कम से कम दस मिनट पहले पहुंचना चाहिए और अपनी सीट पर बिलकुल तनावमुक्त हो कर बैठना चाहिए।

7- बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं जो पेपर मिलतें ही लिखना शुरू कर देते हैं, नहीं… पहले आप उस पेपर को कम से कम तीन बार ध्यान पूर्वक अवश्य पढ़िए, और फिर दिए गयें प्रश्नों को तीन भागों में बांटिए जैसे सबसे पहले आप उन प्रश्नों को हल करना शुरू कीजिये जो आपको पूरी तरह से याद है, फिर उन प्रश्नों को करिये जिन्हें कुछ सोच कर करने की आवश्यकता महसूस हो रही है और सबसे बाद आप उन कठिन प्रश्नों को करने की कोशिश कीजिये जो आपको परेशानी में डाल रहे हैं, इससे होगा यह कि आप उन प्रश्नों का सटीक उत्तर दे सकते हैं जो आपने याद किया है और कोई प्रश्न आप से छूटेगा नहीं..

8- बहुत से बच्चों की यह शिकायत रहती है कि इस प्रश्न का उत्तर तो मुझे आ रहा था मगर समय समाप्त हो गया और छूट गया, तो इस समस्या से बचने का एक सबसे सरल उपाय यह है कि आप की लिखने की स्पीड अच्छी होनी चाहिए और इसके लिए आपको प्रतिदिन कम से कम चार पन्ना नकल लिखने की आदत डालनी पड़ेगी।यदि आप इन छोटी छोटी बातों पर विशेष ध्यान देते हैं तो यकीन मानिए सफलता आपको जरूर  मिलेगी।

लाईव विजिटर्स

27344967
Live Visitors
Today Hits
Previous articleजौनपुर : लायंस क्लब शाहगंज स्टार ने वितरित किया टेबल- बेंच
Next articleजौनपुर : पीयू की परिसर परीक्षाएं शुरू, 1500 विद्यार्थियों ने दी परीक्षा
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏