जौनपुर : किसान सम्मान निधि के अपात्र लोगों को मिली नोटिस

जौनपुर : किसान सम्मान निधि के अपात्र लोगों को मिली नोटिस

# धनराशि वापस न करने पर होगी कठोर कार्यवाही- जयप्रकाश

तेजीबाज़ार।
संदीप गुप्ता
तहलका 24×7
                प्रधानमंत्री योजना के अंतर्गत छोटे कास्तकार (किसानों) को भारत सरकार द्वारा किसान सम्मान निधि के रूप में दो-दो हजार रुपये के हिसाब से सहायता राशि खातों में भेजी जा रही थी, इस निधि का लाभ लेने के लिए अपात्र किसानों की खूब भरमार हो गयी लोगों ने मिलकर करोड़ों रुपये प्राप्त भी किये, इस संबंध में भारत सरकार द्वारा एक जांच टीम बैठाई गयी।

जांच पड़ताल में अन्य जिलों के साथ साथ जौनपुर जिले के भी लगभग हजारों किसान अपात्र पाए गये जिसमें भारत सरकार के पोर्टल द्वारा उन्हें चिन्हित कर ऐसे सभी किसानों को नोटिस जारी की गई और कहा गया कि उन्हें जितने भी क़िस्त सम्मान निधि के रूप में प्राप्त हुए है वे उन सभी रुपयों को भारत सरकार के अकाउंट में वापस जमा कर दें अन्यथा उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। नोटिस पाते ही अपात्र किसानों के चेहरों पर मायूसियां छा गयी।

इस संबंध में उपकृषि निदेशक जौनपुर जयप्रकाश ने बताया कि भारत सरकार द्वारा छोटे गरीब किसानों को सहायता स्वरूप किसान सम्मान निधि के रूप में दो-दो हजार रुपया प्रति क़िस्त उन्हें खाते में भेजा जा रहा था जिसमें पात्र किसानों के साथ अपात्र किसानों की भरमार हो गयी, जिसके संदर्भ में जांच टीम द्वारा पता चला कि जौनपुर जिले में 9532 ऐसे किसान हैं जो आयकर दाता हैं वे भी इसका लाभ उठा रहे है, पोर्टल द्वारा पकड़े जाने के बाद इन सभी अपात्र किसानों को नोटिस जारी की गई जिसमें लिखा गया कि जितनी धनराशि किसान सम्मान निधि द्वारा आपको प्राप्त हुआ है वो धनराशि सरकार को वापस कर दें अन्यथा कठोर कार्यवाही की जायेगी।
उपनिदेशक ने बताया कि किसी को दो क़िस्त तो किसी को चार या पांच क़िस्त वही कितने लोगों को छः क़िस्तो में निधि प्राप्त हुई है। करोड़ो रुपयों को वापस लाने के लिए भारत सरकार ने नोटिस जारी किया है। इन्होंने बताया कि विभाग द्वारा नोटिस में बैंक एकाउंट का नम्बर दिया गया है नोटिस पाने वाले सभी लोग एक हफ्ते के भीतर धनराशि जमा करके विभाग को रसीद उपलब्ध करा दें। एक और सवाल पर इन्होंने कहा कि अगर पात्र किसानों को किसी कारण बस नोटिस जारी किया गया है तो वो अपने सभी डॉक्युमेंट प्रार्थना पत्र के साथ मेरे ऑफिस में जमा कर दें, उसके प्रार्थना पत्र पर विचार करते हुए संबंधित अधिकारी लखनऊ को भेजा जायेगा ताकि सुधार हो जाये।
Previous articleजौनपुर : युवती की फर्जी आईडी बनाकर बदनाम करने का आरोपी गिरफ्तार
Next articleनई तकनीक से विद्यार्थियों का जुड़ना भारत की प्रगति में होगा सहायक- एमएलसी
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏