जौनपुर : जीवन और मौत के संघर्ष में जूझ रही गर्भवती महिला को मिला जीवनदान

जौनपुर : जीवन और मौत के संघर्ष में जूझ रही गर्भवती महिला को मिला जीवनदान

# समाजसेवी शिक्षक ने रात 2 बजे रक्तदान करके बचाई जान

शाहगंज।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
               प्रसव होने की घड़ी नजदीक थी और शाहगंज के भादी निवासी जीनत की हीमोग्लोबिन रिपोर्ट बेहद नाजुक.. ब्लड ग्रुप भी बेहद रेयर, बी निगेटिव.. ऐसे में मसीहा बनकर आए समाजसेवी शिक्षक आनंद वर्मा ने रात 2 बजे के करीब खुद जाकर रक्तदान किया और जच्चा बच्चा की जान बचाई।सामाजिक संस्था जेसीआई शाहगंज सिटी के अध्यक्ष आशीष जायसवाल ने बताया कि उनकी संस्था “नीड ब्लड, कॉल जेसी” मुहिम चलाती है

जिसके तहत जरूरतमंदों को एक फोन कॉल पर रक्त मुहैया कराया जाता है। इस मुहिम के संयोजक और संस्था के पूर्व अध्यक्ष दीपक जायसवाल के पास रात 12 बजे सूर्या हॉस्पिटल के सर्जन डॉ सुधाकर मिश्रा की कॉल आती है कि एक महिला के लिए बी निगेटिव ब्लड ग्रुप के रक्त की तत्काल जरूरत है। खोजबीन के बाद पता चलता है कि संस्था के वरिष्ठ सदस्य और पेशे से सरकारी शिक्षक आनंद वर्मा का ब्लड ग्रुप बी निगेटिव है। इतनी रात में भी उन्हें कॉल करने पर सकारात्मक जवाब मिलता है और आनंद झट तैयार होकर रक्तदान के लिए रात के 2 बजे नगर स्थित अनीता हॉस्पिटल के ब्लड बैंक पहुंच जाते हैं। समय पर रक्त की जरूरत पूरी हो जाने से जच्चा और बच्चा दोनों की जान बच जाती है।

लाईव विजिटर्स

27345397
Live Visitors
Today Hits
Previous articleवीभत्स हादसा: पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे आग का गोला बनी कार, तीन लोग जिंदा जले
Next articleजौनपुर : मानक को धत्ता बताते हुए कराया जा रहा भवन निर्माण
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏