जौनपुर : साईबर फर्जीवाड़ा ! जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम से फेसबुक और इंस्टाग्रांम पर बना फर्जी पेज

जौनपुर : साईबर फर्जीवाड़ा ! जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम से फेसबुक और इंस्टाग्रांम पर बना फर्जी पेज

# फर्जी पेज से हो रहा था लोगों को ठगने का काम

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
             फेसबुक और इंस्टाग्रांम पर एक साल से जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम से पेज चल रहा था। ऐसा करने वाला शख्स ठगी का प्रयास कर रहा था। अपर पुलिस अधीक्षक नगर डा. संजय कुमार ने बताया कि साइबर सेल और स्वाट टीम व थाना लाइन बाजार की संयुक्त टीम द्वारा सोशल मीडिया पर वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम से पेज बनाकर ठगी करने वाले अभियुक्त को जोगियापुर के पास से गिरफ्तार किया गया।

उन्होंने बताया कि जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम पर फेसबुक और इंस्टाग्रांम पर एक फर्जी पेज तैयार किया गया। इस पेज को बनाकर लोगों से ठगी करने का काम शुरू हो गया, जिसकी जानकारी एसपी अजय साहनी को हुई तो उन्होंने प्रभारी निरीक्षक थाना लाइन बाजार को मुकदमा दर्ज कर साइबर सेल के आरक्षी ओपी जायसवाल को जांच और कार्यवाही के लिए निर्देशित किया गया। इस पर साइबर सेल द्वारा संबंधित फेसबुक को ट्रेस कर अभियुक्त की पहचान की गई। साइबर सेल-स्वाट व थाना लाइन बाजार की संयुक्त टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर चंद्र शेखर सिंह उर्फ शोले सिंह पुत्र तुंगनाथ सिंह निवासी रामनगर रीठी थाना सिकरारा को जोगियापुर पुल के नीचे से गिरफ्तार किया, जिसके कब्जे से घटना में प्रयुक्त दो मोबाइल फोन बरामद किया गया।

# चुनाव के समय बनाया था पेज

एएसपी सिटी के मुताबिक गिरफ्तार किए गए चंद्र शेखर सिंह ने बताया कि फेसबुक और इंस्टाग्राम पर लाइक व्यूवर के माध्यम से पैसा कमाने के उद्देश्य से यह फर्जी अकाउंट बनाया था, जिसे लगभग एक साल पहले चुनाव के समय ही बनाया था, चुनाव का लाभ उठाते हुए चुनाव प्रचार का फोटो सोशल मीडिया से प्राप्त कर फर्जी तरीके से बनाए गए जिला पंचायत अध्यक्ष के नाम से फेक फेसबुक और इंस्टाग्राम पेज पर अपलोड करता रहा, जिससे लोग इस पेज को आधिकारिक पेज मान सके, जिसका लाभ मिला।

# नौकरी दिलाने के नाम पर मांग रहा था पैसा

एएसपी सिटी के मुताबिक चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि फेसबुक और इंस्टाग्राम पेज पर बनाए गए फर्जी पेज का लाभ उसे मिलने लगा था। लोग उसे जिला पंचायत अध्यक्ष समझ कर मैसेज करने लगे, जिससे मन में लालच आ गया और मैने कुछ लोगों को नौकरी दिलाने का भरोसा दिला कर पैसे की मांग की गई, परंतु किसी ने पैसा नहीं दिया। जैसे ही मुझे पता लगा कि मेरे द्वारा बनाएं गए पेज पर मुकदमा पंजीकृत हो गया है और साइबर की टीम मुझे खोज रही है, मैं फेसबुक पेज को डीलिट कर जनपद छोड़कर भागने की फिराक में था कि पुलिस टीम द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया।
Previous articleजौनपुर : प्रेमिका की बेवफाई से नाराज युवक ने की थी हत्या
Next articleजौनपुर : पांच घंटे तक कामाख्या तो.. पौने दो घंटे तक रोकी गई बेगमपुरा एक्सप्रेस
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏