जौनपुर : सावन के अंतिम शनिवार को करशूलनाथ मंदिर पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

जौनपुर : सावन के अंतिम शनिवार को करशूलनाथ मंदिर पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

तेजीबाज़ार।
संदीप गुप्ता
तहलका 24×7
               पूरे सावन मास भर श्रद्धालुओं ने अपने भगवान शिव का बड़े ही श्रद्धा पूर्ण तरीके से जलाभिषेक कर बड़े ही विधि-विधान से पूजन अर्चन किया। वहीं भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए भक्तों ने पूरे सावन भर भोर से ही मंदिरों में जलाभिषेक करने के लिए लंबी लाइनों में लगकर जल चढ़ाया।इसी कड़ी में आज सावन के अंतिम शनिवार को स्थानीय करशूलनाथ मंदिर पर भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिली। महिलाएं, पुरुष, युवक, युवतियां, बच्चें, बूढ़े आदि लोगों ने भगवान शंकर को जल चढ़ाया।

दूध, दही, धतूर, भांग, माला, फूल चढ़ाकर धूप, अगरबत्ती, घी का दीपक जलाया। वहीं फल, चरणामृत व मेवे का भोग भी लगाया गया। मंदिर के पुजारी गिरी महाराज ने बताया कि इस मंदिर पर भोर के तीन बजे से ही भक्तों का आना-जाना शुरू हो जाता है जो अनवरत लगभग बारह बजे तक भगवान शंकर को जलाभिषेक भक्तों के द्वारा किया जाता है। मंदिर प्रांगण में रोज किसी न किसी भक्तों द्वारा बड़े ही विधि विधान से ब्राह्मणों के सानिध्य में रुद्राभिषेक भी होता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान शंकर जी के मंदिर में रुद्राभिषेक का बहुत महत्व है।

मंदिर प्रांगण में प्रशासनिक व्यवस्था भी बहुत चुस्त देखने को मिली जहाँ महिलाएं व युवतियों ने प्रशासनिक व्यवस्थाओं के बीच बड़े ही श्रद्धा के साथ भगवान शंकर की पूजा करते दिखाई दे रही थी।महिला पुलिस मंदिर के अंदर और गेट के पास मुस्तैद थी, मंदिर प्रांगण में हेड कांस्टेबल विनोद शर्मा के साथ सिपाही दिनेश यादव सहित दर्जनों पुलिसकर्मी अपनी ड्यूटी निभाते नजर आ रहे थे।प्रशासन के निर्देश पर मंदिर प्रांगण में लग रहे मेले की दुकानों को एक उचित स्थान दिया गया। मंदिर के बगल मेला लगवाया गया, मंदिर में आये भक्तगण मेले का भी भरपूर आनंद उठा रहे थे।
Previous articleजौनपुर : हर घर तिरंगा अभियान के लिये निकाली गई प्रभात फेरी तथा झांकी
Next articleजौनपुर : तीन दिनों से आमरण अनशन पर बैठे पीड़ित की हालत बिगड़ी
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏