आजमगढ़ : जब एम्बुलेंस खुद है बीमार तो मरीजों को कैसे पहुंचाए अस्पताल

आजमगढ़ : जब एम्बुलेंस खुद है बीमार तो मरीजों को कैसे पहुंचाए अस्पताल

आजमगढ़।
फैज़ान अहमद
तहलका 24×7
                सीएचसी अहरौला पर तैनात 108 एंबुलेंस ही बीमार हो गई है। ऐसे में बीमारों का इलाज कैसे होगा। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रही है। जिसमें सीएचसी पर तैनात एंबुलेंस को लोग धक्का लगा रहे है और फिर भी वह स्टार्ट नहीं हो रहा है। अक्सर ही सरकारी एंबुलेंस बीच रास्ते में खराब हो जाती है। जिससे यह प्रश्न उठना लाजमी है कि वह मरीजों को अस्पताल कैसे पहुंचाएगी ? इसके बाद भी विभाग अपने इनके फिटनेस की ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

सीएचसी अहरौला के ठीक सामने ही शनिवार की शाम एक एंबुलेस को मरीज के तीमारदार धक्का दे रहे थे। जिसका वीडियो व फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। अक्सर ही यह 108 नंबर की एंबुलेस ऐसे ही बीच रास्ते में खड़ी हो जाती है। जब इसमें मरीज रहते है तो मरीज के साथ ही तीमारदारों के समक्ष बड़ी समस्या खड़ी हो जाती है। वायरल वीडियो में काफी देर तक लोग इस एंबुलेंस को धक्का दे रहे थे लेकिन वह स्टार्ट नहीं हुई। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो व फोटो पर लोग बढ़-चढ़ कर कमेंट भी कर रहे है। जिसमें लोगों का कहना है कि जब स्वास्थ्य विभाग की एंबुलेंस ही बीमार है तो वह बीमारों को अस्पताल कैसे पहुंचाएंगी। सरकार ने एंबुलेंस की व्यवस्था आम जनता की सुविधा के लिए चालू किया है लेकिन विभागीय लापरवाही के चलते खामियाजा मरीज भुगत रहे है। फिटनेस की ओर तो जैसे विभाग ध्यान ही नहीं देता है।

अहरौला सीएचसी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. योगेश गौतम ने कहा कि वायरल वीडियो में जो एंबुलेंस है वह हमारे अस्पताल की नहीं है। उसमें कोई तकनीकी खराबी आ गई थी, जिसके चलते वह स्टार्ट नहीं हो रही थी। वैसे भी इन एबुलेंसों के देख-रेख की जिम्मेदारी लखनऊ के जीवीके कंपनी की है। फिटनेस व संचालन की जिम्मेदारी उन्हीं की है। इसके लिए उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा जाएगा कि एंबुलेंसों का फिटनेस चेक करा लिया जाए।
Previous articleसुल्तानपुर : अघोषित बिजली कटौती से आक्रोशित लोगों ने किया सड़क जाम
Next articleआजमगढ़ : 12 परिषदीय विद्यालयों के 40 शिक्षकों का वेतन रोका
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏