आम जनमानस की धारणा है कि “मोदी है तो मुमकिन है”- सीमा द्विवेदी

आम जनमानस की धारणा है कि “मोदी है तो मुमकिन है”- सीमा द्विवेदी

# 8 वर्ष की यह यात्रा देश की सोच को बदलने की यात्रा- राकेश त्रिवेदी

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                भारतीय जनता पार्टी जौनपुर ने सांगठनिक दृष्टि से दोनों जिला की संयुक्त प्रेस वार्ता नगर स्थित सिद्धार्थ उपवन होटल में आयोजित की गई। इसके पहले जिलाध्यक्ष रामविलास पाल ने जिले के 10 लाभार्थियों को प्रतीक स्वरूप भाजपा का फ़टका और गमछा देकर सम्मानित किया। उसके उपरान्त एलईडी पर भाजपा का गीत प्रस्तुत की गई और केंद्र सरकार के 8 साल के कार्यों के पम्पलेट का विमोचन किया गया। उसमे उपरान्त प्रेस वार्ता की गई।
प्रेस कान्फ्रेंस करते हुए राज्य सभा सांसद सीमा द्विवेदी और जिला प्रभारी राकेश त्रिवेदी ने सयुक्त रूप से बताया कि पहले देश में एक समान सोच थी कि इस देश का कुछ भी नहीं हो सकता अब आम जनमानस में यह धारणा बनी है कि “मोदी है तो मुमकिन है”। 8 वर्ष की यह यात्रा देश की सोच को बदलने की यात्रा है पहले सरकार जनता से कहती थी कि हुआ तो हुआ, अब जनता कह रही है जो कभी नहीं हुआ वह मोदी जी के शासनकाल में हुआ। 8 वर्ष की यात्रा वंशवाद में योग्यता सिद्धि, निर्णय लेने की जड़ता से साहसी निर्णय लेने और सरकार के परिवार के प्रति समर्पित होने से लेकर देश के समर्पित होने तक की यात्रा है।

उन्होंने आगे बताया कि 8 वर्ष की यह यात्रा जातिवाद, परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण के बंधन से दंश से ग्रसित देश की राजनीति पर सर्व-स्पर्शी एवं सर्व-समावेशी विकासवाद की जीत की अविरल यात्रा है। यह गरीबों, पिछड़ों, दलितों, आदिवासियों, महिलाओं, युवाओं एवं समाज में हासिये पर खड़े हर व्यक्ति के सशक्तिकरण एवं उनके जीवन में उत्थान लाने की यात्रा है। वर्षों में देश ने दिखाया है कि कठिन से कठिन चुनौतियों से पार पाते हुए भी सफलता के नए आयाम स्थापित किए जा सकते हैं पत्थर पर लकीर खींची जा सकती है। यह आत्मनिर्भर भारत की यात्रा है विश्व गुरु के पद पर भारत के प्रतिष्ठित करने का मार्ग बनाने की यात्रा है। उन्होंने आगे बताया कि 8 वर्ष की है यात्रा आत्मनिर्भर भारत की संकल्प से सिद्धि के रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत देश का रास्ता भी है और संकल्प भी है, आत्मनिर्भरता में देश के अनेक मुश्किलों का हल है।
उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत का आत्मविश्वास बढ़ा है, भारत आत्मनिर्भरता की राह पर तेजी से अग्रसर हुआ है, जनता में राष्ट्रवाद की भावना बढ़ी है, जनता के लिए हर क्षेत्र में बुनियादी सुविधाएं बढ़ी है, किसानों और गरीबों की आय बढ़ी है, देश मुश्किलों से उबर कर जल्द खड़ा होना सीख गया है। मोदी सरकार का मूल मंत्र सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास है उन्होंने आगे बताया कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय का सपना गरीबी उन्मूलन मोदी सरकार का प्रथम मूल मंत्र है, सेवा ही संगठन, राष्ट्र सर्वोपरि, गांव, गरीब, किसान, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, पिछड़े, युवा महिलाओं का विकास, आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति, कल्याणकारी अर्थव्यवस्था का निर्माण जिसमें गरीबों का कल्याण निहित हो यह मोदी सरकार का मूल मंत्र है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 8 वर्षों में भारत की तस्वीर बदली है यह बदलाव मोदी के अहर्निश परिश्रम की पराकाष्ठा के फलस्वरुप संभव हो पाया है। पहले योजनाएं कागज पर ही बनती थी और कागज पर ही इंप्लीमेंट होती थी और कागज पर ही कंप्लीट भी हो जाती थी। बीते 8 वर्ष में कागज से क्रियान्वयन और डिक्लेरेशन से इम्प्लीमेंशन की यात्रा के रहे हैं।

पिछले 8 वर्षों में गरीबी 22% से घटकर 10% से नीचे आ गई है। कोरोना संकट के बावजूद अत्यंत गरीबी की दर भी 1% से 0.8% पर स्थिर बनी हुई है। देश की प्रति व्यक्ति आय दोगुनी हुई है। विदेशी मुद्रा भंडार भी लगभग दुगुना हुआ है, साक्षरता दर 69% से यह आंकड़ा 75% हुआ। पिछले 8 वर्ष में देश में 15 नए एम्स का निर्माण हुआ जबकि आजादी से 2014 तक देश में केवल 7 एम्स थे उसमें से भी 6 श्रधेय अटल बिहारी बाजपेई जी के सरकार में बने। डॉक्टरों की संख्या भी पिछले 8 साल में 12 लाख से ज्यादा बढ़ी है। लगभग 170 नए मेडिकल कॉलेज बने। 8 साल का सड़क नेटवर्क दुनिया में दूसरे स्थान पर देश पहुंच गया वही सौर और पवन ऊर्जा में भारत की क्षमता बीते 5 सालों में दुगनी हुई तो वही कोविड-19 के कारण उत्पन्न मंदी के बावजूद पिछले वित्त वर्ष में 418 अरब डालर का रिकॉर्ड निर्यात हुआ। वित्तीय वर्ष 2021-22 के 10 महीने में भारत के किसी निर्यात में 23% की बढ़ोतरी दर्ज हुई। जहां मनमोहन सरकार में कृषि बजट में 8.5% की वृद्धि हुई थी वही मोदी सरकार में कृषि बजट में 38.8% की वृद्धि हुई और साथ ही साथ कृषि बजट 10 गुना हुआ पिछली सरकार के अपेक्षा। 2013-14 में भारत की जीडीपी 112.33 लाख करोड़ रुपए के आसपास थी आज भारत की जीडीपी दोगुने से भी ज्यादा 232.14 लाख करोड़ से ज्यादा है।

उन्होंने आगे बताया कि मोदी सरकार में 500.5 अरब डॉलर विदेशी निवेश आया है, जो कि यूपीए सरकार के 10 वर्षों में एफडीआई के मुकाबले 65% ज्यादा है, जीएसटी कलेक्शन लगातार बढ़ रही है, पहली बार देश की मिट्टी की सुगंध से सुवासित राष्ट्रीय शिक्षा नीति बनी है और सभी भारतीय भाषाओं को सम्मान मिला है। आज भारत स्टार्ट अप और यूनिकॉर्न हब के रूप में उभरा है। उन्होंने आगे बताया कि पहली बार किसी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था और जीडीपी को आम जनता से जोड़ा उज्जवला योजना, स्वच्छ भारत अभियान, जल जीवन मिशन, गरीब कल्याण योजना, किसान सम्मान निधि, आयुष्मान भारत और सौभाग्य योजना के कारण देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत हुई और मंदी के बावजूद देश की विकास दर दुनिया में सर्वाधिक बनी रही।
पहली बार किसानों और मजदूरों के लिए ₹3000 मासिक पेंशन की व्यवस्था हुई अब तक 2.38 करोड़ से अधिक घर गरीबों के लिए बनाए जा चुके हैं। 2014 से पहले समस्याओं को ही नियति मान लिया गया था देश की जनता ने तो यह सोचना ही छोड़ दिया था कि यह समस्याएं कभी खत्म भी हो सकती हैं लेकिन नरेंद्र मोदी की मंशा ही कुछ और थी। उन्होंने सभी समस्याओं का स्थाई और शांतिपूर्ण समाधान कर राष्ट्र को विकास की धारा के साथ जोड़ दिया। जैसे जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बना और धारा 370 खत्म हुआ और अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर बनने का सपना साकार हुआ, ट्रिपल तलाक से मुस्लिम महिलाओं को आजादी मिली, नागरिकता संशोधन कानून संसद में पारित हुआ, आतंकवाद के खिलाफ व्यापक अभियानह चालू है, गरीब सवर्णों को आरक्षण दिया गया, ओबीसी कमिशन को संवैधानिक मान्यता दी गई, वन रैंक, वन पेंशन, वन नेशन, वन राशन कार्ड सभी लागू हुए, 1450 पुराने और बेकार कानूनों से जनता को राहत मिली ऐतिहासिक श्रम सुधार कानून लागू हुआ कि श्रम कार्ड से करोड़ों मजदूरों को लाभ मिला।

दिव्य काशी भव्य काशी का सपना हुआ साकार रामायण सर्किट, महाभारत सर्किट और बुद्ध सर्किट का निर्माण हुआ, बाबा केदारनाथ धाम का पुनरुद्धार हुआ, सोमनाथ मंदिर का विकास, स्टेचू ऑफ यूनिटी का निर्माण, जलियांवाला बाग स्मारक, बाबा भीमराव से जुड़े पंचतीर्थ का निर्माण, आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित जनजाति संग्रहालय का निर्माण, संविधान दिवस, सामाजिक समरसता दिवस, विभाजन विभीषिका दिवस, राष्ट्रीय एकता दिवस, जनजाति गौरव दिवस और योग दिवस की शुरुआत हुई। नेशनल वार मेमोरियल और प्रधानमंत्री संग्रहालय का निर्माण इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण, लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस का संग्रहालय बना। पूर्वोत्तर में विकास की गंगा बही, उग्रवाद खत्म हुआ और ब्लॉकेड बंद हुआ। नागालैंड शान्ति समझौता 2015, एनएलएफटी का समझौता 2019, ब्रू-रियांग समझौता 2020, बोडो समझौता 2020, कार्बी आंगलोंग समझौता 2021, 8 वर्षों में प्रधानमंत्री जी का 50 से अधिक बार पूर्वोत्तर का दौरा, हर 15 दिन में कोई न कोई केंद्रीय मंत्री प्रवास पर होते हैं और विकास कार्यों का जायजा लेते हैं। पूर्वोत्तर के लिए प्रधानमंत्री विकास पहल की घोषणा इस बार के बजट में की गई इसके लिए 1500 करोड़ रुपये का प्रारंभिक आवंटन बजट में दिया गया।

प्रधानमंत्री मोदी की लीडरशिप में आज भारत बोलता है तो दुनिया सुनती है। उरी के बाद सर्जिकल स्ट्राइक हो, पुलवामा के बाद एयर स्ट्राइक हो, अनुच्छेद 370 को खत्म करना हो या आतंकवाद पर बात हो भारत में नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में अपने बेमिसाल कूटनीतिक कौशल का परिचय दिया है, इन सभी अवसरों पर पाकिस्तान पूरी तरह से अलग-थलग हो गया। रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान भारत की कूटनीति की सराहना तो हमारे दुश्मन भी कर रहे हैं। भारत ने अपने 23 हजार छात्रों की सकुशल वतन वापसी कराई। एक ओर रूस और अमेरिका से जहां हमारे सहज और सरल संबंध है तो वहीं दूसरी ओर ईरान और सऊदी अरब के साथ भी उतने ही सहज संबंध है। हमारे तमाम रक्षा सौदे भी देश हित में किए गए है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत की पहल पर अंतरराष्ट्रीय सौर संगठन का गठन हुआ, पर्यावरण समझौता हुआ, आतंकवाद के खिलाफ वित्तीय अनियमितता पर लगाम कशा गया, गणतंत्र दिवस समारोह में आसियान देशों के समकक्षों को आमंत्रित किया गया, भारतीय संस्कृति को वैश्विक प्रतिष्ठा मिली जैसे 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया, आयुर्वेद का प्रचार प्रसार किया गया, अपने समकक्षो के साथ मुलाकात पर श्रीमद्भागवतगीता, तुलसी का पौधा या देश की किसी सांस्कृतिक प्रतीक चिन्ह की भेंट दी गई। दिल्ली से बाहर अंतरराष्ट्रीय बैठकें जैसे अहमदाबाद महाबलीपुरम गोवा में किया गया। स्थानीय भाषा को सम्मान मिला जैसे संयुक्त राष्ट्र संघ में तमिल और संस्कृति को सम्मान मिला इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अनेकों देश ने अपने देश का सर्वोच्च सम्मान दिया। कोविड प्रबंधन में स्वयं के साथ ही विश्व कल्याण की भावना से मोदी सरकार ने काम किया दुनिया के 100 से अधिक देशों को दवाई और वैक्सीन से मदद की गई। लॉकडाउन में भारत स्वास्थ्य सेवा में आत्मनिर्भर बना केवल 9 महीने में भारत ने दो-दो कोविड वैक्सीन विकसित किए और अब तक देश में 192 करोड़ से अधिक वैक्सीन डोज एडमिनिस्टर हुए।

उन्होंने आगे बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास सबका प्रयास के मंत्र से कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीति पूरी तरह भरभरा कर बिखर गई उत्तर प्रदेश उत्तराखंड गोवा मणिपुर पंजाब मिलाकर 680 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस बमुश्किल 56 पर जीत सके उत्तर प्रदेश में उसके 387 उम्मीदवारों के जमानत जप्त हुए आज केवल दो राज्य राजस्थान और छत्तीसगढ़ में ही कांग्रेश की पूर्ण बहुमत की सरकार है झारखंड और महाराष्ट्र में वह छोटे सहयोगी दल की भूमिका में है। मोदी के नेतृत्व में आज देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है और नवभारत का शंखनाद हो रहा है, जहां सबके लिए समान अवसर हो और सब खुशहाल हो, जहां सब के पास घर हो, घर में बिजली, शुद्ध पीने का पानी, गैस कनेक्शन और शौचालय हो। जहां सबके लिए आगे बढ़ने को उचित अवसर हो, जहां किसान सशक्त हो, जहां मातृशक्ति का सम्मान हो, जहां समाज में सद्भाव हो और विकास की चाह हो। उन्होंने आये हुये पत्रकार बन्धुओ को धन्यवाद कहते हुये प्रेस वार्ता को समाप्त की।

कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम के प्रमुख जिला उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंघानिया ने की। उक्त अवसर पर जिला महामंत्री सुनील तिवारी, राजेन्द्र श्रीवास्तव, जिला मंत्री रविन्द्र सिंह राजू दादा, अभय राय, मीडिया प्रभारी आमोद सिंह, अनिल गुप्ता, विनीत शुक्ला, सिद्दार्थ राय, रोहन सिंह, हर्ष मोदनवाल आदि उपस्थित रहे।
Previous articleजौनपुर : चिकित्सा अधीक्षक के खिलाफ चिकित्साधिकारी का पत्र वायरल
Next articleजौनपुर : किसान का बेटा बना असिस्टेंट प्रोफेसर, बधाईयाँ देने वालों का लगा तांता
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏