जौनपुर : गोद लिए गए टीबी मरीजों को लायंस क्लब मेन ने वितरित किया पौष्टिक आहार

जौनपुर : गोद लिए गए टीबी मरीजों को लायंस क्लब मेन ने वितरित किया पौष्टिक आहार

# टीबी मुक्त राष्ट्र बनाने के लिए लायन्स क्लब दृढ़ संकल्पित

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                 लायन्स क्लब जौनपुर मेन द्वारा गोद लिए गयें टीबी मरीजों को पौष्टिक आहार वितरण कार्यक्रम स्थान करंजाकला ब्लाक सभागार में किया गया। जिसमें लोगों को टीबी रोग से संबंधित जानकारी, बचाव, उपचार के प्रति जागरूक किया गया तथा 33 एडाप्टेड रोगियों को प्रोटीन युक्त पोषक तत्व प्रदान किया गया।
पोषाहार किट पाकर टीबी मरीजों के चेहरे खुशी से खिल गए। पोषाहार किट में मूंगफली, चना, गुड़, तिल्ली, सत्तू, दलिया, दाना, बिस्कुट व साबुन, पौष्टिक पैकेट आदि प्रदान किया गया जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं। संस्थाध्यक्ष संदीप गुप्ता ने आये हुए लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि क्षय रोग के तेजी से पैर पसारने की मुख्य वजह गरीबी व जागरूकता की कमी है। गरीबी की वजह से लोग पोषक तत्वों से युक्त भोजन नहीं कर पाते, इससे प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती हैं, इसके अलावा नशे का आदी हो जाने के कारण प्रतिरोधक क्षमता घट जाती है और क्षयरोग के शिकार हो जाते हैं।
ऐसे में टीबी रोग के मरीजों को पोषक तत्वों के सेवन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। मण्डल टीबी उन्मूलन चेयरमैन सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा ने कहा कि प्रधानमंत्री के भारत को टीबी मुक्त राष्ट्र बनाने के लक्ष्य को समय से पूरा करने के लिए आपसी समन्वय व सहयोग से हम सभी को मिलकर टीबी मुक्त भारत बनाना है, इसके लिए लायन्स क्लब दृढ़ संकल्पित है। आगे मुस्तफा ने कहा कि यह रोग इलाज योग्य व रोकथाम योग्य है इसका समय रहते उपचार किया जा सकता है जिसके लिए जरूरी है आप खुद जागरूक हो और अपने आसपास के लोगों को जागरूक करें और समय से इलाज कराएं और जो दवाइयां दी जाये उनको वक्त पर खाएं, स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें।
प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ विवेक कुमार ने कहा कि टीबी एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति के फेफड़ों और श्वसन तंत्र को प्रभावित करती है। इसका सक्रिय रूप अत्यधिक संचारी है और खांसी, छींक, लार आदि के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। रोग के सामान्य लक्षण लगातार खांसी, थकान, बुखार, ठंड लगना, रात में पसीना आना, सीने में दर्द, सांस लेने में समस्या, भूख न लगना है। टीबी का मरीज दूसरे स्वस्थ व्यक्तियों को भी संक्रमित कर सकता है। इसके लिए टीबी के मरीजों को चाहिए कि अपने मुंह पर मास्क या कपड़ा लगाकर बात करें और मुंह पर हाथ रखकर खांसना और छींकना चाहिए। इस अवसर पर सचिव राजीव श्रीवास्तव, राम कुमार साहू, नीरज शाह, नवीन सिंह, दिनेश निगम आदि का विशेष योगदान रहा।
Previous articleजौनपुर : हर घर तिरंगा अभियान की सफलता के लिए कार्यकर्ता अभी से लग जाएं- राकेश त्रिवेदी
Next articleजौनपुर : पत्रकार उत्पीड़न में आईजी समेत 10 से मांगा स्पष्टीकरण
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏