जौनपुर : नई शिक्षा नीति से कालेजों में बंद हो जाएगी कामर्स की पढ़ाई

जौनपुर : नई शिक्षा नीति से कालेजों में बंद हो जाएगी कामर्स की पढ़ाई

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
                   नई शिक्षा नीति के तहत जारी गाइड लाइन से वाणिज्य (कामर्स) की पढ़ाई को लेकर संकट खड़ा हो गया है। यदि यही हालत रही तो निजी कालेज में वाणिज्य विषय की पढ़ाई बंद हो जाएगी। एडेड कालेजों में भी सीटें भरने को लेकर समस्या आ सकती है। दाखिले को लेकर छात्र भी भटक रहे हैं। कालेज भी इस बात को लेकर परेशान हैं कि उनकी सीटें कैसे भरेंगी।
दरअसल नई शिक्षा नीति लागू होने के बाद दाखिला प्रक्रिया में बदलाव कर दिया गया है। शासन ने तय कर दिया है कि इंटर में गणित, इंटर में अर्थशास्त्र और इंटर में कामर्स की पढ़ाई करने वाले छात्र ही स्नातक स्तर पर वाणिज्य (कामर्स) में दाखिला ले सकते हैं। बायो ग्रुप और कला वर्ग के साथ अन्य विषयों की पढ़ाई करने वाले छात्र कामर्स में दाखिला नहीं ले सकते हैं। इसके चलते बायो ग्रुप और दूसरे संकाय के छात्र कामर्स में दाखिला नहीं ले पा रहे हैं। शिक्षकों का कहना है कि बायो ग्रुप के जो छात्र कामर्स में दाखिला लेने के लिए आ रहे हैं, उनका प्रवेश लेने से मना कर दिया जा रहा है।
तमाम ऐसे छात्र हैं, जो कामर्स की पढ़ाई करना चाहते हैं लेकिन नियम से बंधे होने के कारण उनका दाखिला नहीं हो पा रहा है। इससे छात्र और कालेज दोनों का नुकसान हो रहा है। दाखिला का समय भी बीतता जा रहा है। छात्र भी दुविधा की स्थिति में हैं कि किस विषय में दाखिला लें। जबकि अवध विश्वविद्यालय और गोरखपुर ने पहले एकेडमिक काउंसिल में इसे पास करा लिया है। दाखिला को लेकर वहां कोई परेशानी नहीं आ रही है।राजा श्रीकृष्ण दत्त पीजी कालेज के शिक्षक डा. संतोष त्रिपाठी का कहना है कि शनिवार को कई कालेजों के शिक्षक कुलपति से मिलने के लिए विवि आए थे। कुलपति की गैर मौजूदगी में कुलसचिव से वार्ता हुई।
कुलसचिव महेंद्र कुमार ने कहा कि पत्र तो आया है लेकिन कुलपति के आने के बाद ही इस पर चर्चा हो पाएगी। फिलहाल कालेज इंतजार कर रहे हैं। इस संदर्भ में समन्वयक वाणिज्य संकाय टीडी कालेज डॉ अमित कुमार राहुल ने कहा कि कामर्स में दाखिला को लेकर आ रही दिक्कत से विवि को पहले अवगत करा दिया गया है। बोर्ड आफ स्टडी में पास हो गया है। एकेडमिक काउंसिल में पास कराने की जरूरत है। एक पखवारे पहले हमने फिर से कुलपति को पत्र देकर समस्या से अवगत करा दिया है। यदि इस पर शीघ्र कोई निर्णय नहीं लिया गया तो कामर्स की सीट भर पाना मुश्किल होगा।
Previous articleजौनपुर : दो वर्षों से फरार चल रहा जालसाजी और धोखाधड़ी का आरोपी गिरफ्तार
Next articleजौनपुर : अखंड भारत के निर्माण का लेना है संकल्प- अजय पांडेय
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏