प्राणिमात्र में ईश्वर का दर्शन है सबसे बड़ा धर्म

प्राणिमात्र में ईश्वर का दर्शन है सबसे बड़ा धर्म

खुटहन।
संतलाल सोनी
तहलका 24×7
                       क्षेत्र अंतर्गत सौरईया गाँव मे पत्रकार शिवशंकर दूबे के आवास पर आयोजित श्रीमद्भागवत कथा में जुटे श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए आचार्य पंडित अखिलेश चन्द्र मिश्र ने कहा कि जीव के सभी स्वरूपो में ईश्वर का वास है। चाहे मानव हो या जानवर सभी में उस परम शक्ति का स्थान है। बस हमें खुद में यही विश्वास जगाकर सभी जीवो में ईश्वर का अंश मान उनके साथ अच्छा ब्यवहार करते रहने मात्र से इहलोक से मुक्ति मिल जायेगी।
उन्होने कहा कि चौरासी लाख योनियो में भटकने के बाद यह मानव शरीर मिला है। इसकी सार्थकता उस उस परम शक्ति को प्राप्त कर लेने में ही है। इस जनम में चूके तो फिर उन्हीं योनियो में करोड़ो वर्ष तक भटकना पड़ेगा। इस लिए माया मोह से उठकर अच्छा बुरा सब कुछ ईश्वर पर छोड़ दो। वह प्रहरी की तरह तुम्हारे आस पास रहकर वह सब कुछ देगा, जो तुम्हारी वास्तविक जरूरत है। इस मौके पर त्रिलोकी दूबे, आशाराम शर्मा, चंदन त्रिपाठी, दिलीप, हरिनाथ, संतोष सिंह, बिजय बहादुर यादव, संगीता देवी आदि मौजूद रहीं।

लाईव विजिटर्स

27303218
Live Visitors
4123
Today Hits

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : भाजपा की परिचयात्मक बैठक सम्पन्न
Next articleजौनपुर : अवैध असलहे के साथ युवक गिरफ्तार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏