गाजीपुर : शहीद जवान का पार्थिव शरीर पहुँचा पैतृक आवास

गाजीपुर : शहीद जवान का पार्थिव शरीर पहुँचा पैतृक आवास

# पूरा क्षेत्र हुआ गमगीन, जय हिन्द के नारे से गूंजा क्षेत्र

खानपुर।
अंकित मिश्रा
तहलका 24×7
                थाना क्षेत्र के मौधा गाँव निवासी बीएसएफ के जवान सतीश सिंह (40) पुत्र इंद्रजीत सिंह की बीते शुक्रवार की दोपहर करीब बारह बजे भूस्ख़लन से मौत हो गयीं। दो दिन बाद आज जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गाँव खानपुर क्षेत्र के मौधा पहुँचा।
जानकारी के अनुसार क्षेत्र के मौधा गाँव निवासी बीएसएफ के जवान सतीश सिंह (40) पुत्र इंद्रजीत सिंह की मेघायल मे भूस्ख़लन से मौत हो गयीं थीं। घटना की जानकारी परिजनों को होते मातम छा गया। दो दिन बाद ज़ब सोमवार की सुबह करीब साढ़े आठ बजे उनके पैतृक आवास मौधा पहुँचा। जवान के शव की आने की सूचना पर सैदपुर एसडीएम ओम प्रकाश गुप्ता, क्षेत्राधिकारी सैदपुर बलिराम प्रसाद व थानाध्यक्ष खानपुर संजय मिश्रा सहित थानाध्यक्ष बहरियाबाद संदीप कुमार सहित चौकी प्रभारी मौधा आशुतोष शुक्ला मय फ़ोर्स गाँव मे मौजूद रहें।

# गुहावटी से दिल्ली, दिल्ली से बाबतपुर एयरपोर्ट पहुँचा जवान का शव

मेघालय शहीद जवान सतीश सिंह के शव को रात साढ़े आठ बजे गुहावटी एयरपोर्ट से जहाज द्वारा दिल्ली लाया गया और पुनः दिल्ली से लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट वाराणसी सुबह करीब साढ़े छह बजे लाया गया। जवान के पार्थिव शरीर को गाँव से बाबतपुर एयरपोर्ट पहुचें परिजन व सीआरपीफ के जवानो द्वारा उन्हें उनके पैतृक़ आवास मौधा लाया गया गया।

# शव के आते ही वन्दे मातरम व जय हिन्द से गूंजा क्षेत्र

शहीद जवान सतीश सिंह के पार्थिव शरीर सीआरपीएफ के गाड़ी से उनके गाँव आते ही ग्रामीणों द्वारा वन्दे मातरम व जय हिन्द के नाम से गूंजने लगा। वहीं शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए मौके पर भारी सख्या मे फ़ोर्स भी मौजूद रही

# कम्पनी के कमांडर ने दी परिजनों को सूचना, बताया घटना के बारे मे

क्षेत्र के मौधा निवासी बीएसएफ के जवान सतीश सिंह (40) पुत्र इंद्रजीत सिंह की कांस्टेबल के पद पर मेघायल मे पोस्टिंग के बाद अपने तेरह जवानों के टोली मे एक साथ मेघालय मे तैनात थे की अचानक भूस्ख़लन होने से उनकी मौत हो गयीं। बीएसएफ के कमांडर एएसआई सुरेश चंद्र यादव ने बताया कि सतीश की पोस्टिंग मेघालय मे थीं। वहीं ड्यूटी के बाद सतीश अपने तेरह जवानों के साथ बनी टोली के टेंट मे आराम कर रहें थे कि अचानक आकाशीय बिजली के पहाड़ो पर गिरने से भूस्ख़लन होने लगा। जब तक सतीश अपने टेंट से बाहर निकलते कि इतने भूस्ख़लन से मिट्टी के बीच दब गये और उनकी मौके पर ही मौत हो गयीं। उनके साथ टोली मे तैनात जवान ब्रीफिंग कर रहें थे कि उनसे मिली सूचना के बाद मौके पर पहुँच भूस्ख़लन होने के बाद मिट्टी को हटाने का कार्य किये जाने लगा वहीं ज़ब तक हम सतीश को बाहर निकल पाते की उनकी मौत हो चुकी थीं।

# पिता-पुत्र समेत अधिकारियो ने दी अंतिम सलामी

शहीद जवान के पार्थिव शरीर के गाँव पहुँचते ही सतीश के पिता इंद्रजीत व सतीश के पुत्र शिवांग सहित उप जिलाधिकारी सैदपुर ओम प्रकाश गुप्ता व क्षेत्राधिकारी सैदपुर बलिराम, थानाध्यक्ष खानपुर संजय मिश्रा, थानाध्यक्ष बहरियाबाद संदीप कुमार, चौकी प्रभारी आशुतोष शुक्ला सहित अपने तेरह बटालियन के साथ आये सीआरपीएफ के इंस्पेक्टर सहित स्थानीय लोगो ने अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित की। पिता को पुष्प अर्पित करते समय शिवांग फफक कर रोने लगा इतना देखते ही एसडीएम सैदपुर ओमप्रकाश गुप्ता व क्षेत्राधिकारी बलिराम गले लगाकर सांत्वना देने लगे।
Previous articleजौनपुर : बोरे में शव होने की सूचना पर पुलिस हुई हलकान
Next articleगाजीपुर : पंद्रह दिनों बाद भी नाबालिग किशोरी का सुराग लगाने में पुलिस नाकाम
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏