जौनपुर : 632 आयकरदाताओं ने वापस किया पीएम किसान सम्मान निधि का 30 लाख

जौनपुर : 632 आयकरदाताओं ने वापस किया पीएम किसान सम्मान निधि का 30 लाख

# 9541 आयकरदाता ले रहे पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ

जौनपुर।
आर एस वर्मा
तहलका 24×7
               जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ 9541 आयकरदाता ले रहे हैं। इनमें कुछ पीसीएस अधिकारियों के भी नाम है, जो योजना के तहत अपात्र की श्रेणी में आते हैं। इनसे योजना के तहत जारी की गई किश्त की धनराशि वसूलने की तैयारी है। हालांकि, इनमें 632 आयकरदाताओं ने 30 लाख रुपये जमा भी कर दिए हैं। वहीं, विभाग ने यह तैयार कर ली है कि अगर अपात्र घोषित किए गए आयकरदाता धनराशि जमा नहीं करेंगे तो उन्हें आरसी जारी कर 10 प्रतिशत ब्याज सहित धनराशि की वसूली की जाएगी।

केंद्र सरकार द्वारा किसानों को खाद-बीज तथा सिंचाई आदि में सहयोग के लिए साल में तीन बार में दो-दो हजार करके कुल छह हजार रुपये किसान सम्मान निधि के रूप में सीधे उनके बैंक खाते में भेजा जाता है। लघु और सीमांत किसानों के लिए शुरू हुई उक्त योजना में आगे चलकर कुछ शर्तों के साथ सभी किसानों को सम्मिलित कर लिया गया। जरूरतमंदों के लिए शुरू की गई इस योजना का लाभ बड़ी संख्या में अपात्र व्यक्ति भी उठाने लगे। कुछ ही दिनों बाद सरकार को जब इसका अंदेशा हुआ कि योजना का लाभ अनुमानित से ज्यादा लोग ले रहे हैं तो शासन द्वारा अपील की गई कि जो भी लोग योजना की पात्रता श्रेणी में नहीं आते हैं कृपया वे स्वेच्छा से लाभ लेना छोड़ दें। सरकार द्वारा की गई इस अपील का असर नहीं दिखा।

योजना में पात्र-अपात्र का सत्यापन शुरू हुआ तो चौंकाने वाले नाम सामने आए। जनपद में इसका लाभ इस समय कुल सात लाख 56 हजार 451 किसान पा रहे हैं। इसमें से 9541 किसान ऐसे पाए गए हैं, जो आयकरदाता हैं। बावजूद इसके योजना का लाभ ले रहे थे। जबकि यह अपात्र की श्रेणी में आते हैं, जिनको भारत सरकार की वेबसाइट ने चिह्नित किया है। इसके अतिरिक्त अन्य कृषक जो भूमिहीन है। वह भी योजना के अंतर्गत अपात्र है, जबकि उन्हें भी योजना का लाभ मिल रहा है। ऐसे किसानों को चिह्नित करके उनको योजना के तहत मिली धनराशि की वसूली का कार्य शुरू कर दिया गया है। हालांकि अब तक 632 आयकरदाताओं ने कृषि विभाग द्वारा जारी किए गए बैंक अकाउंट में 30 लाख रुपये भेज दिया है।

इस संदर्भ में उप कृषि निदेशक जयप्रकाश ने बताया कि भारत सरकार की वेबसाइट ने पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ पा रहे 9541 अपात्र किसानों को चिह्नित किया है, जो आयकरदाता हैं। यह किसान योजना के तहत अपात्र की श्रेणी में आते हैं। इसमें से 632 आयकर दाताओं ने 30 लाख रुपये जमा कर दिए हैं। शेष अपात्र किसान स्वयं योजना की धनराशि दिए गए खाते में जमा कर दें। ऐसा नहीं होने पर संबंधित किसान को आरसी जारी कर 10 प्रतिशत ब्याज के साथ धनराशि की वसूली की जाएगी।
Previous articleसुल्तानपुर : मामूली कहासुनी पर बेटे ने मां को डंडे से पीटकर उतारा मौत के घाट
Next articleजौनपुर : लगातार दूसरे दिन अवैध असलहा बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड़
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏