धूल भरी आंधी के बाद जबरदस्त बारिश ने ली 25 लोगों की जान

धूल भरी आंधी के बाद जबरदस्त बारिश ने ली 25 लोगों की जान

लखनऊ।
आर एस वर्मा
तहलका 24×7
             उत्तर प्रदेश के कई जिलों में रविवार रात से लेकर सोमवार तक आंधी और बारिश ने तबाही मचाई। आंधी-बारिश के दौरान बिजली, पेड़, दीवार गिरने से अलग-अलग जगह 25 लोगों की जान चली गई। लखनऊ समेत अवध के विभिन्न जिलों में पेड़ और घर गिरने से नौ लोगों की मौत हो गई। सबसे ज्यादा चार लोगों की जान सीतापुर में गई।
अलीगढ़ में तीन व लखीमपुर खीरी में दो की मौत हुई है। वहीं, मेरठ, फिरोजाबाद, शाहजहांपुर, इटावा, औरैया, उन्नाव, चित्रकूट जालौन, कन्नौज, देवरिया व मिर्जापुर में एक-एक की जान गई। कई जगह खंभे-पेड़ गिरने से घंटों तक बिजली आपूर्ति व आवागमन में बाधा आई। सुल्तानपुर जिले में सोमवार दोपहर बाद आई आंधी और बारिश ने जमकर तबाही मचाई। आंधी में कई जगह पेड़ और बिजली के तार टूटकर गिर गए। पेड़ से टूटी डाल की चपेट में आने से बल्दीराय क्षेत्र में एक 12 वर्षीय बच्ची की मौत हो गई, जबकि जयसिंहपुर में तीन घायल हो गए। कई मार्गों पर आवागमन बाधित रहा। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक बिजली गुल हो गई। बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली और जायद की फसलों को फायदा पहुंचा है। मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटे में भी आंधी के साथ बारिश की संभावना जताई है।
सीतापुर जिले में आंधी-बारिश से मानपुर, मिश्रिख और हरगांव इलाके में तीन बच्चों समेत चार लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। मानपुर इलाके में एक बालक की मौत पेड़ के नीचे दबने से हो गई। मिश्रिख इलाके में दीवार ढहने से दो मासूम बच्चियों की मौत हो गई। हरगांव में दीवार ढहने से एक महिला की मौत हो गई। हादसे से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। 
मानपुर इलाके के गांव रमुवापुर मजरा कल्यानपुर निवासी प्रशांत मिश्रा (8) घर के बाहर खेल रहा था। सोमवार को दोपहर अचानक तेज आंधी आ गई। प्रशांत घर की तरफ भागा, तभी एक पेड़ टूटकर उसके ऊपर गिर गया, जिससे वह घायल हो गया। परिजन बालक को निजी वाहन से इलाज के लिए लखनऊ ले जा रहे थे, मगर रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। परिजनों ने बिना पुलिस को सूचना दिए शव का अंतिम संस्कार कर दिया। हरगांव के वार्ड तरपतपुर निवासी फूलमती (66) घर पर टीन शेड के नीचे बैठी थी। अचानक टीन दीवार समेत उन पर गिर गई। परिजन महिला को लेकर सीएचसी हरगांव पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने महिला को मृत घोषित कर दिया।
बाराबंकी में दोपहर करीब एक बजे तेज आंधी के साथ शुरू हुई बरसात से मौसम सुहाना हो गया। बदली इतनी घनी थी कि अंधेरा छा गया। शहर से लेकर गांव तक कई जगहों पर पेड़ गिरने से यातायात भी बाधित हुआ। बिजली के तार टूटने से आपूर्ति ठप हो गई। अयोध्या में धूल भरी आंधी के बाद हल्की बारिश हुई। अमेठी के कुछ हिस्सों में तेज हवा के साथ बूंदाबांदी हुई। बलरामपुर में तेज हवाओं के साथ आसमान में काले बादल छा गए है। रायबरेली जिले में करीब 1:30 बजे हवा के साथ बूंदाबांदी हुई। आसमान में बादल और बूंदाबांदी से लोगों को गर्मी से काफी राहत मिली है। सुल्तानपुर में तेज आंधी के साथ बूंदाबांदी हुई।
गोंडा जिले में एकाएक मौसम बदलने से सोमवार दोपहर तेज आंधी के बाद बारिश से जहां कई घरों के टिनशेड व छप्पर उड़ गये। वहीं, पोल व तार टूटने से बिजली आपूर्ति बाधित हो गई। कई जगह सड़कों पर पेड़ गिरने से आवागमन बाधित रहा। आंधी की वजह आम गिरने से बागवानों में निराशा है। इटियाथोक क्षेत्र में आंधी के बीच सीढ़ी से फिसलकर गिरने से युवती की मौत हो गई। वहीं, तरबगंज में पेड़ गिरने से एक युवक घायल हो गया।
Previous articleबागपत : दो समुदायों में खूनी संघर्ष, महिला समेत नौ घायल
Next articleजौनपुर : राष्ट्रहित व समाजहित के लिए काम करती है संगत पंगत संगठन- आरके सिन्हा
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏