जौनपुर : अब न हो मुल्क में कोई दंगा कभी, और मैली न हो अब ये गंगा कभी

जौनपुर : अब न हो मुल्क में कोई दंगा कभी, और मैली न हो अब ये गंगा कभी

# क़ौमी यकजहती की मिसाल है सिराज-ए-हिंद की धरती- धनंजय सिंह

# कवि सम्मेलन और मुशायरे में रात भर झूमे श्रोता

शाहगंज।
रवि शंकर वर्मा
तहलका 24×7
                  क्षेत्र के मजडीहा स्थित किंग पैलेस में बुधवार रात शेरो सुखन की महफिल जमीं। कवि सम्मेलन और मुशायरे में देश प्रदेश से आए कवियों और शायरों ने अपनी रचनाएं पेश की और श्रोताओं का दिल जीत लिया। इस अदब की महफिल में गंगा जमुनी तहजीब की साझी विरासत की झलक भी देखने को मिली, जहां शुरुआत में हिंदू कवि ने नात पढ़ी और मुस्लिम शायर ने सरस्वती वंदना का पाठ किया।
गुरुवार भोर तक चले कवि सम्मेलन और मुशायरे में देश प्रदेश से आए कवियों और शायरों का जमावड़ा रहा। संचालन शंकर कैमूरी ने किया। इसके अलावा हाशिम फिरोजाबादी ने अब न हो मुल्क में कोई दंगा कभी, और मैली न हो अब ये गंगा कभी… आइये आज हम मिलकर खाएं कसम, झुकने न देंगे हाशिम ये तिरंगा कभी नज़्म सुनाकर खूब वाहवाही लूटी। अज्म शाकरी लाखों सदमे ढेरों ग़म, फिर भी नहीं है आखें नाम सुनाकर वर्तमान हालात का बयान किया। शाइस्ता सना की ग़ज़ल मेरी जुल्फों को कभी शाम नहीं लिखता है, और इन आखों को वो जाम नहीं लिखता है सुनाकर खूब तालियां बटोरी। हास्य कवि बिहारी लाल अंबर, अखिलेश द्विवेदी, विकास बौखला ने सत्ता शासन और प्रशासन पर जमकर व्यंग बाण चलाए। विभा शुक्ला ने मेरे महबूब मुझे ऐसी निशानी दे दे, दिल में ठहरे हुए जज्बों को रवानी दे दे सुनाकर लोगों का मन मोह लिया। इसके अलावा पूनम श्रीवास्तव, आराधना शुक्ला, अली बाराबंकवी, मयकश आजमी और फजीहत गहमरी ने अपनी रचनाओं को पेश किया कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर पूर्व सांसद धनंजय सिंह मौजूद रहे। उन्होंने आयोजन के लिए आयोजकों को शुक्रिया कहा और प्रस्तुति देने वाले कवियों शायरों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन हमारे सामाजिक तानेबाने को मजबूत करते हैं। कवि सम्मेलन और मुशायरा के आयोजक खुर्शीद अनवर खान ने बताया कि यह कार्यक्रम हमारी साझी तहजीब की विरासत के जिंदा रखने के उद्देश्य से आयोजित किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत में शंकर कैमूरी ने नात पढ़कर और अज्म शाकरी ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत करके एक दूसरे के धर्म का सम्मान करने का संदेश दिया।
Previous articleजौनपुर : फरीदुल हक़ कॉलेज में सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन
Next articleजौनपुर : समर कैम्प में ट्रेनिंग के बाद नई प्रतिभाओं का होगा उदय- डा. आलोक
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏