40.6 C
Delhi
Monday, May 20, 2024

तहलका 24×7 विचारमंथन में लेखिका डॉ रश्मि शुक्ला की होली पर स्वरचित कविता…

तहलका 24×7 विचारमंथन में लेखिका डॉ रश्मि शुक्ला की होली पर स्वरचित कविता… 

“होली के हम रंग”

इस बार हम यादो के रंग होली खेलें,
कोरोना ने मार डाला उनको कैसे भुलें।

बहुत याद आते हैं सब अपने प्यारे रंग,
दोस्त सहयोगी बन मिलकर रहते संग।

हिन्दु मुस्लिम सिख ईसाई सब एक रंग,
आओ आज नमन करते तब खेले रंग।

क्रोध हिंसा बैर की होलिका जलाकर,
फागुन के रंग बिरंगे गीत माला गाकर।

हम सब मिलकर स्वदेशी होली मनाएं,
चाइना, पाक के दिल मे आग लगाएं।

रंग रंग के प्यारे बगिया के है फूल सब,
“रश्मि” जन कहती फगुआ आया अब।

लेखिका
डॉ रश्मि शुक्ला (अध्यक्ष)
सामाजिक सेवा एवं शोध संस्थान प्रयागराज
Mar 19, 2021

तहलका संवाद के लिए नीचे क्लिक करे ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓

लाईव विजिटर्स

37436881
Total Visitors
638
Live visitors
Loading poll ...

Must Read

Tahalka24x7
Tahalka24x7
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... ?

कोतवाली प्रभारी तारकेश्वर राय लाइन हाजिर 

कोतवाली प्रभारी तारकेश्वर राय लाइन हाजिर  शाहगंज, जौनपुर।  सौरभ आर्य  तहलका 24x7               कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रहे...

More Articles Like This