एटीएस ने दो जालसाजों को महाराष्ट्र से दबोचा, एक आरोपी वाराणसी तो दूसरा जौनपुर का..

एटीएस ने दो जालसाजों को महाराष्ट्र से दबोचा, एक आरोपी वाराणसी तो दूसरा जौनपुर का..

लखनऊ।
आर एस वर्मा
तहलका 24×7
                 एटीएस की टीम ने दो जालसाजों को महाराष्ट्र के पालघर बीच से गिरफ्तार किया है। दोनों जालसाजों पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। जाली नोट के नाम पर ठगी करने वाले इस गिरोह के कई सदस्य पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं। दोनों के खिलाफ गोमतीनगर थाने में जालसाजी व लूट का मुकदमा दर्ज है।
एटीएस के एडीजी नवीन अरोड़ा के मुताबिक, पकड़े गए आरोपियों में वाराणसी फूूलपुर स्थित गंगापुर मंगारी निवासी रामायण सिंह उर्फ सचिन और जौनपुर के नेवढ़िया स्थित नयेपुर का विमल पटेल उर्फ विधायक शामिल है। पुलिस के मुताबिक, गिरोह के कुछ सदस्य लोगों को उच्च गुणवत्ता की भारतीय जाली मुद्रा उपलब्ध कराने का झांसा देते थे। उनसे मोटी रकम ऐंठते थे। रुपये लेकर पहुंचने के बाद उनसे लूट करते थे। वहीं अंडरवर्ल्ड की धमकी भी देते थे।
यह गिरोह महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान और उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में भी फैला है। इस गिरोह के सदस्यों ने प्रयागराज के कारोबारी से दिल्ली में बुलाकर 90 लाख रुपये लूट लिए थे। एटीएस ने इस गिरोह का खुलासा 29 अक्तूबर 2021 को लखनऊ में किया था। आरोपियों के पास से 44 लाख 77 हजार रुपये बरामद किए थे। पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसके बाद दो आरोपियों की झारखंड के महोदा रेलवे स्टेशन से गिरफ्तारी की गई। फिर दो अन्य 25-25 हजार के इनामी रामायण व विधायक की गिरफ्तारी वाराणसी यूनिट ने महाराष्ट्र के पालघर से की है।

# सरगना ने राजौरी में बनाया रिसॉर्ट, पांच करोड़ से ज्यादा की लूट की

एटीएस के एडीजी के मुताबिक, गिरोह का सरगना व मास्टरमाइंड रामायण सिंह उर्फ सचिन है। वह लूट व ठगी के रुपये से अपने साथी विमल पटेल उर्फ विधायक के साथ राजौरी बीच पर रिसॉर्ट बनाकर ऐश की जिंदगी जी रहा था। सचिन ने पूछताछ में बताया कि वह 2013 से ठगी व लूट कर रहा है। पैसे वाले लोगों को टारगेट करते थे। उसने बताया कि पहले उन्हें मिटिंग के लिए बुलाया जाता था जिसके बदले हम उनसे 5-10 लाख रुपए टोकन मनी लेते थे। मिटिंग में हम उन्हें असली नोट देते थे और बाकायदा उसे एटीएम मशीन में डिपॉजिट कर दिखाकर भरोसा जीतते थे। सचिन ने यह भी बताया कि साथी हरिओम दुबे ने 2013 से अब तक कई बार गिरोह बनाकर देश के अलग-अलग राज्यों उत्तर प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, गुजरात और महाराष्ट्र के लोगों से पांच करोड़ से ज्यादा रुपये लूट चुके हैं।
Previous articleरईस गैंग के तीन शूटर लखनऊ पुलिस से मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार
Next articleरोडवेज में आईटी कंपनी के भुगतान में 25 करोड़ का घोटाला, वायरल चार्जशीट से हुआ खुलासा
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏