जौनपुर : भारत विकास परिषद के नशामुक्ति पोस्टर का डीएम ने किया विमोचन

जौनपुर : भारत विकास परिषद के नशामुक्ति पोस्टर का डीएम ने किया विमोचन

जौनपुर।
विश्व प्रकाश श्रीवास्तव
तहलका 24×7
              विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर भारत विकास परिषद द्वारा नशामुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा एंव पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने संयुक्त रूप से कलेक्ट्रेट सभागार में किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने कहा कि संस्था द्वारा नशामुक्ति का अभियान लगातार एक हफ्ते से चलाया जा रहा है, जो बहुत ही सराहनीय है। इसके लिए सभी को जागरूक होने की आवश्यकता  है। नशा एक अभिशाप है, नशे से सभी को दूर रहना चाहिए। हर संभव प्रयास करूंगा कि हमारे विभाग के अधिकारी कर्मचारी किसी भी तरह के नशा का सेवन ना करें। दोहरा, गुटका, पान मसाला आदि नुकसान करने वाले नशीले पदार्थों से दूर रहें।

वहीं पुलिस अधीक्षक ने अजय कुमार साहनी ने कहा दोहरा, गुटका, पान मसाला के सेवन से मुख कैंसर की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है। इसके सेवन‌ से सभी को बचना चाहिए। नशामुक्ति प्रकल्प प्रमुख, मुख एंव दन्तरोग विशेषज्ञ डा. गौरव प्रकाश मौर्य बताया कि तम्बाकू एवं ध्रूमपान का सेवन करना बहुत नुकसान दायक है, इससे बचे और दूसरों को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करे। WHO द्वारा वर्ष 1987 से हर साल 31 मई को विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के रूप में मनाया जाता है। पान, गुटखा, सिगरेट, दोहरा, खैनी, सुर्ती एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद सेहत के लिए अत्यंत हानिकारक हैं, इनसे कैंसर के साथ ही हृदय, फेफड़ा, गुर्दा एवं शरीर के अन्य भागों को भी नुकसान होता है।कोरोना संक्रमण के दौर में तो ये ख़तरा और बढ़ गया हैl धूम्रपान करने से फेफड़े कमजोर हो जाते हैँ जिससे कोरोना संक्रमण बढ़़ने की संभावना रहती है l इसके अलावा पान मसाला, गुटखा खाकर लोग जगह-जगह थूकते हैं जिससे संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है।

तम्बाकू उत्पादकों का प्रयोग मुख एवं गले के कैंसर का प्रमुख कारण है जिससे हर साल करीब 4 लाख लोग अपनी जान गँवा देते हैँ lगेट्स (ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे) 2016-17 के अनुसार भारत में करीब 34.6% व्यस्क लोग तम्बाकू का सेवन करते हैंl सिगरेट, बीड़ी का उपयोग करने वालों की संख्या 1998 में 7.9 करोड़ से बढ़कर 2015 में 11 करोड़ हो गयी अतः ये अत्यंत अवश्यक है कि लोग जल्द से जल्द इस लत से छुटकारा पा लें।

# तम्बाकू छोड़ने के कुछ उपाय

1. मज़बूत इक्छा शक्ति रखें।
2. अचानक बंद करने के बजाये धीरे- धीरे तम्बाकू की मात्रा कम करें।
3. तलब लगने पर लौंग, इलाइची, सौंफ का प्रयोग करें।
4. तम्बाकू का सेवन करने वालों से दूरी बना के रखें।

वहीं पूर्व अध्यक्ष विक्रम गुप्त ने कहा समाज में गुटका, दोहरा इत्यादि खाना एक बहुत बड़ी बुराई के रूप में है, इस तरह के जहरीले पदार्थों का सेवन करके लोग जगह- जगह थूकते हैं जिससे हर तरफ गंदगी हो जाता है साथ ही साथ स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अध्यक्ष नीरज श्रीवास्तव ने कहा कि समाज मे ब्याप्त तमाम बुराइयों का कारण नशावृत्ति है अगर व्यक्ति किसी भी प्रकार के नशा से दूर रहे समाज और परिवार के लिए लाभदायक है। परिषद् के महामंत्री दिलीप जायसवाल ने कहा कि परिषद द्वारा चलाये जा रहे साप्ताहिक कार्यक्रम में शहर के प्रमुख कार्यालय स्टेशन इत्यादि जगहों पर शपथ के साथ पम्पलेट के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वित्त एंव राजस्व रामप्रकाश, अपर पुलिस अधीक्षक नगर संजय कुमार, पूर्व अध्यक्ष विक्रम कुमार गुप्त, प्रान्तीय प्रकल्प प्रमुख समग्र विकास अतुल जायसवाल, प्रान्तीय प्रकल्प प्रमुख वनवासी सहायता अवधेश गिरि, शरद साहू, शिवकुमार गुप्ता, सुजीत गुप्ता, डॉ आशुतोष सिंह, संतोष अग्रहरि, अजय श्रीवास्तव, रमेश श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।
Previous articleजौनपुर : सिलाई और कढ़ाई के निशुल्क कार्यशाला का हुआ शुभारंभ
Next articleजौनपुर : नकली एशियन पेंट बनाने वाला युवक गिरफ्तार
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏